मुख्यपृष्ठनए समाचार१६ साल से बंद गाले में प्रयोगशाला!... ड्रमों में बंद मिले इंसानी...

१६ साल से बंद गाले में प्रयोगशाला!… ड्रमों में बंद मिले इंसानी अवयव

सामना संवाददाता / नासिक । नासिक इन दिनों सनसनीखेज घटनाओं के कारण अक्सर सुर्खियों में आ जाता है। नासिक के सुर्खियों में आने की ताजा वजह है यहां के मुंबई नाका क्षेत्र स्थित बंद गाले (दुकान) में इंसानी अवयव का मिलना। ये अवयव किसी प्रयोगशाला की तर्ज पर रसायन में डुबा कर रखे गए थे। स्थानीय निवासियों द्वारा उक्त गाले से भयानक दुर्गंध आने की शिकायत किए जाने के बाद इसका खुलासा हुआ है। एक इमारत के बेसमेंट में स्थित यह दुकान कबाड़ के सामान से भरी हुई थी। दुकान के मालिक का दावा है कि उसकी दुकान करीब १५ साल से बंद है।
बता दें कि मुंबई नाका स्थित एक दुकान से मानव खोपड़ी, आंखें, कान, चेहरे व शरीर के अन्य हिस्से बरामद होने से कल पूरे नासिक जिले में हड़कंप मच गया। बताया जा रहा है कि एक इमारत के बेसमेंट में स्थित यह दुकान कबाड़ के सामान से भरी हुई थी। दुकान में रखे दो ड्रमों को जब खोला गया तो उनमें मानव अवशेष पाए गए। इनमें मानव खोपड़ी, आंखें, कान और चेहरे के कुछ अन्य हिस्से मिले। मुंबई नाका पुलिस थाने के अधिकारियों ने पत्रकारों को बताया कि मानव अंगों को केमिकल में संरक्षित करके रखा गया था। जिस व्यक्ति की ये दुकान है, उसके २ बेटे डॉक्टर हैं। इसलिए आशंका जताई जा रही है कि उन्हीं ने पढ़ाई या अपने काम के सिलसिले में मानव अंगों को गाले में लाकर संरक्षित रखा हो। फिलहाल पुलिस व फॉरेंसिक विभाग की टीम घटनास्थल की बारीकी से छानबीन की है और मानव अंगों को कब्जे में ले लिया है। फिलहाल बंद गाले में कथित ‘प्रयोगशाला’ के रहस्य की आगे की जांच नासिक पुलिस की अपराध शाखा को सौंप दी गई है।’

अन्य समाचार