मुख्यपृष्ठराशि-भविष्यलग्न दिलाएगा नौकरी ... व्यापार में होगी बढ़ोतरी!

लग्न दिलाएगा नौकरी … व्यापार में होगी बढ़ोतरी!

  • पं. राजेंद्र दुबे (ज्योतिषाचार्य)

इंसान के जीवन में कई उतार-चढ़ाव देखने को मिलते हैं। ये उतार-चढ़ाव मनुष्य की राशि, लग्न के कारण होते हैं। इन राशियों और लग्नों की गणना ज्योतिष विद्या से की जाती है। ज्योतिष विद्या से न  सिर्फ भूत और वर्तमान का, बल्कि भविष्य का भी सटीक विश्लेषण होता है।

मेष लग्न- मेष लग्न में जन्म लेनेवाले जातक कई तरह के कार्यों में सफल हो सकते हैं। मेष लग्न हो और मंगल प्रभावशाली होकर शुभ प्रभाव देनेवाले हों तो जातक वर्दी वाली नौकरी (मसलन पुलिस या सेना में) सफल होता है। इसके अलावा एनसीसी, स्काउट, चिकित्सक, वकालत सहित ड्राइविंग की नौकरी में भी सफलता मिलती है। व्यवसाय, कृषि, खेल, खनिज द्रव्य, औषधियां, अनुसंधान, शोध, अन्वेषण, भवन निर्माण और इससे संबंधित सामानों का व्यवसाय मेष लग्न वाले जातक के लिए फलदायी होते हैं।
वृष लग्न- वृष लग्नवाले जातक शुक्र से अत्यधिक प्रभावित होते हैं। ऐसे जातक आमतौर पर विलासिता से जुड़े संस्थानों में नौकरी करते हैं अथवा स्वतंत्र रूप से अभिनेता, गायक, वादक, स्वर विशेषज्ञ, संगीतज्ञ, नर्तक, कलाकृति, निर्माता ज्योतिष, कवि, लेखक साहित्यकार, सट्टा बैंकर आदि के रूप में स्थापित होते हैं।
मिथुन लग्न- मिथुन लग्नवाले जातक बुद्धिमान होते हैं और ये बुद्धि से जुड़ा व्यवसाय या नौकरी में अधिक सफल होते हैं। मसलन अनुसंधानकर्ता, सहायक, संपादक, व्याख्याता, पीए या सचिव को नौकरी इन्हें ज्यादा सफलता देती है। इसके साथ ही मैकेनिक, ज्योतिष, खगोलशास्त्र, चार्टर्ड एकाउंटेंट आदि का काम भी इनके लिए फलित होता है।
कर्वâ लग्न– कर्वâ लग्न के व्यक्ति के व्यवसाय में स्थिरता नहीं रहती है। उतार-चढ़ाव और बदलाव निश्चित है। नौकरी भी लगातार बदलती रहती है। बावजूद इसके ऐसे व्यक्ति जज, वकील, जेलर, नौसेना आदि के क्षेत्र में नौकरी में सफलता अर्जित करते हैं।
सिंह लग्न- सिंह लग्न के लोग अक्सर नौकरी नहीं करते हैं और अगर करते भी हैं तो प्रशासनिक या व्यवस्थापक की नौकरी ही इन्हें मिलती है। हां, कई तरह का व्यवसाय इन्हें जरूर सफल बनाता है। इंजीनियर, पेट्रोलियम, भवन निर्माण, डॉक्टर, ठेकेदार, नकली आभूषणों, खिलौना, कृषि या कृषि से संबंधित पशुपालन, हड्डियों से जुड़ा व्यवसाय या दवाई का व्यवसाय सिंह लग्न के जातकों के लिए बेहतर होता है।
कन्या लग्न- कन्या लग्न के जातक का व्यवसाय या पेशा भी बुध से प्रभावित होता है। मसलन कला, अभिनय, गणित, लेखन, ज्योतिष, साहित्य, अध्यापन, प्रशिक्षण, कंप्यूटर, कमीशन कार्य, पत्रकारिता, राजनीति, फोटोग्राफी, मिष्ठान आदि का व्यवसाय कन्या लग्न के जातक को फेवर  करता है।
तुला लग्न- तुला लग्न के जातकों के लिए दशम भाव का स्वामी चंद्र होता है। इसलिए ऐसे जातकों का व्यवसाय चंद्रमा से प्रभावित होता है। आमतौर पर ऐसे जातक चांदी, ज्वेलरी, मणि, माणिक्य, वस्त्र, मिल, घी, तिल अथवा तेल, किराना, अनाज, दवाई, आयात-निर्यात आदि से संबंधित व्यवसाय में सफल होते हैं। कभी-कभी वह स्कूल या शिक्षण कर्म में भी सफल होते देखे गए हैं।
वृश्चिक लग्न- वृश्चिक लग्न के जातक आक्रामक स्वभाव के अहंकारी होते हैं। अत: नौकरी में वह ज्यादा दिनों तक नहीं टिक पाते हैं, लेकिन सूर्य अगर अनुकूल  होता है तो सेक्रटरी, मजिस्ट्रेट, मंत्री, प्रधानमंत्री, सांसद, राष्ट्रपति सहित इंजीनियर और राजदूत तक बना देता है।
धनु लग्न- धनु लग्न के जातकों के लिए कसीदाकारी, कबाड़ या प्राचीन वस्तुओं का व्यापार, घी का व्यापार, वंâप्यूटर अथवा खेल आदि से संबंधित व्यापार ज्यादा शुभ होता है। पुस्तक या प्रकाशन का धंधा भी इन्हें लाभ पहुंचाते हैं। इन्हें पुरातत्व विभाग, बैंकिंग, पुस्तकालय, एकाउंटेंसी, इनकम टैक्स, डाक-तार विभाग, शेयर आदि क्षेत्रों में नौकरी मिलती है। इसके अतिरिक्त ज्योतिष क्षेत्र में भी सफलता मिलती है।
मकर लग्न- मकर लग्न के जातक अक्सर लिखने-पढ़ने, पत्रकारिता, न्यायाधीश, चिंतक,  प्रोफेसर, संपादक, पुरात्तव विभाग के सहायक, हड्डियों के विशेषज्ञ के रूप में सफल होते हैं। इसके अतिरिक्त साबुन-सोडा अथवा इत्र, अगरबत्ती, पशुधन, शराब, फिल्म, फर्नीचर, हीरे आदि का व्यापारी बनता है। साथ ही लेन-देन के व्यापार में भी वह सफल होता है।
कुंभ  लग्न– कुंभ  लग्न के लोग अक्सर लंबे छरहरे और स्वस्थ्य होते हैं। ऐसे जातक को फौज, सेना, पुलिस, डॉक्टर सहित कृषि पालन और भूगर्भ विज्ञान से संबंधित नौकरी अधिक मिलती है। ऐसे जातक अक्सर ताम्र, पारे, ठेकेदारी, प्रॉपर्टी डीलिंग,कंस्ट्रक्शन, मेडिसीन अथवा पशुपालन और कृषि व्यापार में सफल होते हैं।
मीन लग्न- मीन लग्न के जातकों का लग्नेश और दशमेश दोनों ही गुरु होते हैं। हालांकि ऐसे जातकों का गुरु केन्द्रेश  दोष से पीड़ित होते हैं, फिर भी इनका व्यवसाय अथवा इनकी नौकरी गुरु से ही नियंत्रित होती है। यह और बात है कि दशमस्थ ग्रहों की भूमिका भी महत्वपूर्ण होती है। वैसे मीन लग्न के जातक प्रकाशन, स्कूल  या शिक्षा से संबंधित व्यवसाय में विशेष सफलता हासिल करते हैं। घड़ी, टेलीविजन, इत्र, तेल, चंदन, अच्छे कपड़े, पीली वस्तु सहित घी और फलों का व्यापार भी मीन लग्न के लोगों के लिए फलदायी होता है।

अन्य समाचार