मुख्यपृष्ठटॉप समाचारभाजपाई कुचलचक्र जारी है! लखीमपुर फिर हुआ लहूलुहान, अबकी विधायक की कार...

भाजपाई कुचलचक्र जारी है! लखीमपुर फिर हुआ लहूलुहान, अबकी विधायक की कार ने दो भाइयों को रौंदा!

-यूपी में मदमस्त भाजपाई हो गए हैं बेकाबू
सामना संवाददाता / लखनऊ। कानून-व्यवस्था का दंभ भरनेवाली योगी आदित्य नाथ सरकार के राज में उत्तर प्रदेश के भाजपाई नेता मद में चूर हो गए हैं। खासकर मुख्यमंत्री योगी की दूसरी पारी यानी योगी राज २.० में लखीमपुर खीरी जिले के भाजपाई नेता बार-बार मदमस्त एवं बेकाबू हो रहे हैं। एक का नमूना कल एक बार फिर देखने को मिला, जब भाजपाई विधायक के कारण एक परिवार की खुशियां छिन गर्इं। विधायक की तेज रफ्तार कार ने बाइक पर सवार दो सगे भाइयों को रौंद दिया। हैरानी की बात ये है कि ये घटना भी तब घटित हुई जब लखीमपुर में ही किसानों को कार से रौंदने के करीब ८ माह पुराने मामले में केंद्रीय गृहराज्य मंत्री अजय मिश्रा उर्फ टेनी के बेटे आशीष मिश्रा की जमानत सुप्रीम कोर्ट ने रद्द कर दी। इसके बावजूद भाजपाइयों का सबक न सीखना तथा भाजपाई विधायक योगेश वर्मा की कार की तेज रफ्तार किसी की मौत की वजह बने इस पर लोग हैरानी जता रहे हैं।
बता दें कि रविवार को लखीमपुर खीरी जिले में सदर विधानसभा सीट से विधायक योगेश वर्मा की बेकाबू कार दो लोगों का काल बन गई। तेज रफ्तार में आ रही स्कॉर्पियो कार ने बाइक पर सवार दो सगे भाइयों को रौंद डाला। इस हादसे में दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। ये हादसा लखीमपुर-बहराइच रोड पर हुआ, जहां दोनों भाई अपने घर की ओर जा रहे थे। उनकी बाइक रामपुर के पास पहुंची ही थी कि तभी विधायक की तेज रफ्तार स्कॉर्पियो ने उन्हें टक्कर मार दी। इस टक्कर से दोनों शख्स बुरी तरह जख्मी हुए और वहीं मौके पर दोनों ने दम तोड़ दिया। हालांकि जिस वक्त ये दुर्घटना हुई, उस समय विधायक योगेश वर्मा गाड़ी में सवार नहीं थे। हादसे में कार सवार को किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचा है, स्कॉर्पियो पर विधायक लिखा था। हादसे के बाद स्कॉर्पियो चालक कार सहित मौके से फरार हो गया। स्कॉर्पियो विधायक योगेश वर्मा की पत्नी के नाम से ही रजिस्टर्ड है।
लखीमपुर खीरी के एसपी संजीव सुमन ने इस हादसे से जुड़ी जानकारी साझा करते हुए बताया, ‘बहराइच हाइवे पर बाइक और कार की टक्कर में बाइक सवार दो युवकों की मौत हो गई। वाहन सदर विधायक (योगेश वर्मा) का बताया जा रहा है। हमने चालक और वाहन दोनों को अपनी हिरासत में ले लिया है। आगे की जांच जारी है।’ हादसे की वजह अभी साफ नहीं हो पाई है लेकिन ऐसा बताया जा रहा है कि गाड़ी तेज रफ्तार में थी, इसी के चलते ड्राइवर ने नियंत्रण खो दिया।
गौरतलब हो कि योगी राज में भाजपाई नेताओं के निरंकुश होने की ऐसी घटनाएं अक्सर सामने आती रही हैं। इससे पहले फरवरी महीने में फतेहपुर जिले में चुनाव प्रचार के दौरान भाजपाई नेत्री की दबंगई का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। इसमें प्रचार के दौरान एक घर पहुंची नेत्री का एक नाबालिग लड़की को साथ ले जाने पर महिलाओं से विवाद हो गया, जिसमें उन्होंने बीच-बचाव को आए गांव के दो युवकों से पहले गाली-गलौज की और बाद में थाने में उन दोनों युवकों के खिलाफ छेड़छाड़ सहित संगीन धाराओं में मुकदमा भी दर्ज करा दिया था।
आशीष करेगा एक सप्ताह में सरेंडर!
वर्ष २०२१ के अक्टूबर महीने में लखीमपुर खीरी में तीन कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों की भीड़ पर केंद्रीय गृहमंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष ने कार चढ़ा दी थी। मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष ने ३ अक्टूबर को अपनी कार से ४ किसानों को रौंद दिया था। उक्त घटना में कुल आठ लोगों की मौत हुई थी। इसके बावजूद इलाहाबाद हाईकोर्ट ने १४ फरवरी को आशीष मिश्रा को बेल दे दी थी। इस पैâसले को चुनौती देते हुए मृत किसानों के परिजनों ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दायर की थी, जिस पर सुनवाई के बाद शीर्ष अदालत ने आशीष की जमानत रद्द कर दी और उसे एक सप्ताह के अंदर सरेंडर करने का आदेश दिया है।

अन्य समाचार