मुख्यपृष्ठनए समाचारदेर से शादी व मां बनने का परिणाम गर्भाशय हो जाता है...

देर से शादी व मां बनने का परिणाम गर्भाशय हो जाता है नाकाम! ४० फीसदी महिलाएं हैं पीड़ित, यूरिन लीक की समस्या से ग्रसित

सामना संवाददाता / आगरा
देर से शादी करने और मां बनने के भी काफी सारे नुकसान हैं। ४० फीसदी महिलाएं यूरिन लीक से परेशान हैं। दिक्कत बढ़ने के बाद डॉक्टरों को दिखा रही हैं, जिसमें ऑपरेशन भी कारगर नहीं है। डॉक्टरों के मुताबिक, अधिक उम्र में गर्भाशय कमजोर होने के कारण बच्चा पैदा करने में काफी दिक्कतें होती हैं।
देर से शादी और संतान उत्पत्ति से महिलाएं अनचाही बीमारी की शिकार हो रही हैं। इंडियन एसोसिएशन ऑफ गाइनेकोलॉजिकल एंडोस्कोपिस्ट और आगरा ऑब्स एंड गाइनी सोसाइटी कार्यशाला में डॉक्टरों ने ये व्याख्यान दिए। २० ऑपरेशन भी हुए, जिनके सजीव प्रसारण से चिकित्सकों ने नई तकनीकी समझी।
फतेहाबाद रोड स्थित होटल में इंडियन मीनोपॉज सोसाइटी की सचिव डॉ. रागिनी अग्रवाल ने बताया कि यूरिन लीक की ३५-४० फीसदी मरीज हैं। झिझक के कारण महिलाएं इसे छिपाती हैं। प्लेटलेट्स इंजेक्ट करने, लेजर और इलेक्ट्रोमैग्नेट चेयर से नॉन सर्जिकल इलाज किया जा रहा है।
आगरा ऑब्स एंड गाइनी सोसाइटी की अध्यक्ष डॉ. सुषमा गुप्ता ने कहा कि औसतन २९ साल की उम्र में पहला बच्चा हो रहा है। शादी-संतान के लिए बेहतर आयु २२-२४ साल है। अधिक उम्र में बच्चेदानी कमजोर होने से दिक्कत होती है।
कार्यशाला में डॉ. संजय पाटील, डॉ. बी. रमेश, अमेरिका के डॉ. गैरी मारकस, ब्राजील के डॉ. रितेन रिबेरो, डॉ. सरोज सिंह, डॉ. रिचा सिंह, डॉ. पूनम यादव, डॉ. रुचिका गर्ग, डॉ. वैशाली टंडन, डॉ. शिखा सिंह, डॉ. अनुपम गुप्ता, डॉ. सविता त्यागी, डॉ. गार्गी गुप्ता आदि रहीं।

हुए ३० मरीजों के ऑपरेशन
संयोजक डॉ. अमित टंडन ने बताया कि कार्यशाला के पहले दिन ३० ऑपरेशन हुए हैं। इसमें बार-बार पेशाब आने, बच्चेदानी का मुंह खुलने, बार-बार गर्भपात होने आदि मामले रहे। इस कार्यशाला में अमेरिका, इटली, ब्राजील के चिकित्सकों ने महिलाओं के ऑपरेशन किए। एसएन कॉलेज के गेस्ट्रो सर्जन डॉ. हिमांशु यादव ने दूरबीन विधि से आंत काटकर जोड़ने का प्रशिक्षण दिया।

अन्य समाचार