मुख्यपृष्ठसमाज-संस्कृतिइतिहास, साहित्य और संस्कृति का मेल 'चल मन वृंदावन' पुस्तक का ...

इतिहास, साहित्य और संस्कृति का मेल ‘चल मन वृंदावन’ पुस्तक का लोकार्पण

मथुरा और वृंदावन के इतिहास, साहित्य और संस्कृति पर आधारित कॉफी टेबल बुक “चल मन वृंदावन” को मुंबई में भव्य रूप से लॉन्च किया गया। इस पुस्तक का संपादन अशोक बंसल ने किया है और इसे हरिवंश चतुर्वेदी ने प्रकाशित किया है। 250 पन्ने की यह किताब हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में उपलब्ध है। बुक लॉन्च के मौके पर वृंदावन फैशन शो भी हुआ। चल मन वृंदावन पुस्तक में वृंदावन के इतिहास, संस्कृति, मंदिरों और पर्यटन के बारे में लेख हैं। अशोक बंसल ने कहा कि ढाई सौ पेज की इस पुस्तक में मथुरा एवं वृद्धावन के साहित्य, धर्म, इतिहास, दर्शन का खूबसूरत मिश्रण है।

इस अवसर पर शत्रुघन सिन्हा, जितेंद्र, रंजीत, रमेश सिप्पी, जैकी श्रॉफ, ईशा देओल, अहाना रहेजा, निर्देशक अनिल शर्मा, रेणु चोपड़ा, जायद खान और योगेश लखानी उपस्थित थे। यह किताब पढ़ते हुए लगेगा कि आप वृंदावन में ही हैं। इस पुस्तक के द्वारा वृंदावन, इसके इतिहास, मंदिरों को दुनिया भर में प्रचार करना उद्देश्य हैं।

यह कॉफी टेबल बुक वृंदावन की यात्रा करने और इसके इतिहास को जानने के लिए एक मार्गदर्शक है। मथुरा-वृंदावन के मंदिरों और ऐतिहासिक धरोहरों के चित्रों के साथ पुस्तक ‘चल मन वृंदावन’ में पूरे बृज, गोवर्धन, नंदगांव, बरसाना, मथुरा और आसपास के 84 कोस के बारे में काफी गहन रिसर्च करने के बाद पूरी जानकारी मौजूद है। इस मौके पर वृंदावन फैशन शो का आयोजन भी किया गया, जो अपने आप मे बड़ा कदम है। भारतीय परिधान और सभ्यता को प्रमोट करने की दिशा में यह कार्य किया गया।

अन्य समाचार