मुख्यपृष्ठनए समाचारअदालत में वकील लिखते हैं फैसले! ...गहलोत की ‘गुगली’

अदालत में वकील लिखते हैं फैसले! …गहलोत की ‘गुगली’

सामना संवाददाता / जयपुर
देश में न्यायपालिका का बड़ा सम्मान है। पर क्या वहां पर कुछ वकील जज की भूमिका निभा रहे हैं? असल में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के एक आरोप के बाद यह सवाल उत्पन्न हुआ है। गहलोत ने सीधे तौर पर आरोप लगाते हुए कहा है कि चाहे निचली हो या वरिष्ठ न्यायपालिका, मैंने तो यह भी सुना है कि कई वकील कोई पैâसला भी लिख देते हैं और अदालत से वही पैâसला आ जाता है।
बता दें कि पूर्व विधानसभा अध्यक्ष और राजस्थान भाजपा विधायक वैâलाश मेघवाल ने केंद्रीय कानून मंत्री अर्जुन राम मेघवाल पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। मेघवाल ने कहा है कि सक्रिय राजनीति में आने से पहले जब अर्जुन राम मेघवाल सिविल सेवक थे, तब उन्होंने बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार किया था। पत्रकारों द्वारा इन आरोपों के बारे में पूछे जाने पर मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा, ‘वैâलाश मेघवाल द्वारा लगाए गए आरोप सही हैं। मुझे पता चला है कि अर्जुन राम मेघवाल के समय में बहुत भ्रष्टाचार हुआ था, लेकिन उन्होंने इस भ्रष्टाचार को दबा दिया। हाई कोर्ट से स्टे मिल गया है। राज्य सरकार अब इन आरोपों की जांच कराने जा रही है। आज देश में हालात बेहद गंभीर हैं। मैं अकेला ही कह रहा हूं कि न्यायपालिका में भारी भ्रष्टाचार है और कई वकील खुद पैâसले लिखते हैं और अदालत से भी वही पैâसला आता है। देशवासियों को इस बारे में सोचना चाहिए। ईडी, सीबीआई, इनकम टैक्स के अधिकारी कभी भी किसी के घर में घुस सकते हैं, धमकी दे सकते हैं। ऐसी घटनाएं देश को बर्बाद कर रही हैं।

 

अन्य समाचार

लालमलाल!