मुख्यपृष्ठनए समाचारसुस्त सरकार : ठाणे में ‘आपला दवाखाना’ को नहीं मिल रही गति!

सुस्त सरकार : ठाणे में ‘आपला दवाखाना’ को नहीं मिल रही गति!

• ६८ में से २२ जगह का हुआ चयन
•  ४६ जगहों की खोज शुरू
सामना संवाददाता / ठाणे
राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी योजना ‘आपला दवाखाना’ को सरकार के सुस्त रवैये के कारण ठाणे में गति नहीं मिल पा रही है। ठाणे मनपा की सीमांतर्गत प्रस्तावित कुल ६८ ‘आपला दवाखाना’ की जगहों में सिर्फ २२ जगहों का ही चयन हो पाया है। अब तक सिर्फ वागले इस्टेट के राम नगर में एकमात्र दवाखाना की शुरुआत हो पाई है और मनपा की तरफ से ४६ स्थानों की खोज अभी भी जारी है। हालांकि, राज्य सरकार की घोषणा से पहले ठाणे मनपा क्षेत्र में पहले से इस तरह के ४५ क्लीनिक चलाए जा रहे हैं।
बता दें कि ठाणे के स्लम क्षेत्रों के नागरिकों को मुफ्त प्राथमिक उपचार प्रदान करने के लिए राज्य सरकार द्वारा ‘बालासाहेब ठाकरे आपला दवाखाना’ की अवधारणा को आगे बढ़ाया जा रहा है। इस क्रम में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने अब राज्य में ‘आपला दवाखाना’ की अवधारणा शुरू की है। इसी के तहत राज्य सरकार के इस उपक्रम के तहत कुछ महीने पहले ठाणे ने भी रामनगर इलाके में अपना क्लिनिक शुरू किया है। यह दवाखाना दोपहर २ बजे से रात १० बजे तक खुला रहता है। मनपा स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि इसे अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है। इसलिए अब मनपा प्रशासन शहर के सभी हिस्सों में आपला दवाखाना शुरू करने के लिए जगह तलाश रहा है। मनपा स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, २२ जगह निर्धारित कर ली गई हैं, जबकि ४६ जगहों की तलाश की जा रही है।

इन २२ जगहों का हुआ चयन
राज्य सरकार के ‘बालासाहेब ठाकरे आपला दवाखाना’ उपक्रम के तहत ठाणे मनपा की सीमा में आनेवाले खिड़काली, दातिवली, साबेगांव, सैनिक नगर, अमीनाबाद, एमटीएमएल कंपाउंड, संजय नगर, रामनगर, हजुरी, गांधानगर, येऊर, बामनोई पाड़ा, कलवा, मानपाड़ा, सावरकरनगर, वागले एस्टेट, ढोकली, दिवा आदि स्थान तय किए गए हैं। मनपा स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि इन जगहों पर जल्द ही ‘आपला दवाखाना’ शुरू कर दिया जाएगा।

संचालित हो रहे हैं ४५ दवाखाना
दिल्ली के मोहल्ला क्लिनिक की तर्ज पर ठाणे में भी मनपा के माध्यम से पहले ही ४५ ‘आपला दवाखाना’ चल रहे हैं। इन दवाखानों का समय शाम ५ बजे से रात १० बजे तक है, इसका लाभ गरीब नागरिकों को मिल रहा है। ठाणे शहर से करीब १,६०० फुट की ऊंचाई पर बसे येऊर की पहाड़ी से लेकर दिवा तक यह नेटवर्क बना हुआ है। यहां मरीजों को मुफ्त दवा, ईसीजी, रक्त परीक्षण, दवा आदि सेवाएं प्रदान की जा रही हैं। मनपा स्वास्थ्य विभाग का मानना है कि अब राज्य सरकार के ६७ और दवाखाना शुरू होने से गरीबों को अच्छा इलाज मिलेगा।

अन्य समाचार