मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनासंपादक के नाम पत्र : रेलवे सुरक्षा बल की नाकामी!

संपादक के नाम पत्र : रेलवे सुरक्षा बल की नाकामी!

मध्य रेलवे में जब गाड़ी यार्ड में खड़ी होती है तो उसमें अवैध गुप्त रोगों के हकीमों, बंगाली बाबाओं का विज्ञापन लगाया जाता है। रेलवे का सफाई विभाग बार-बार इन अवैध पोस्टरों को हटाता है। कठोर कार्रवाई न होने के कारण इन पोस्टर्स को दोबारा लगा दिया जाता है। इन दिनों लोकल में गुरु जाफर शाह के पोस्टर लगाए गए हैं। इतने बड़े सुरक्षा बल की निगरानी में रेलवे रहती है। इसके बावजूद क्या यार्ड में खड़ी गाड़ियां रामभरोसे रहती हैं? जो उपनगरीय गाड़ियों के सभी डिब्बों में अवैध विज्ञापनों के पोस्टर लगा दिए जाते हैं। इन पोस्टरों पर केवल हकीमों और बाबाओं के फोन नंबर दिए जाते हैं। अब सवाल यह उठता है कि क्या रेलवे का गुप्तचर विभाग आरोपियों को पकड़ने में फेल साबित हो रहा है। अब सवाल यह भी खड़ा होता है कि यार्ड या अन्य जगहों पर गाड़ी में अवैध पोस्टर वैâसे और किस तरह लगते हैं? कल को अगर कोई गाड़ी में विस्फोटक सामान रख दे, जिससे जान-माल की हानि होती है तो उसका जबावदार कौन होगा? अब यार्ड में भी सुरक्षारक्षक को गाड़ियों पर पैनी नजर रखनी होगी, क्योंकि संसद कांड की घटना हमें हर तरह से सतर्क रहने का संकेत देती है। वैसे यदि देखा जाए तो समाज कंटकों के निशाने पर हमेशा मुंबई की लाइफलाइन कही जानेवाली लोकल गाड़ियां ही रहती हैं।
– अभय सिंह, उल्हासनगर

अन्य समाचार