मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनासंपादक के नाम पत्र: ठाणे रेलवे प्रशासन के चलते उपेक्षित है यात्री...

संपादक के नाम पत्र: ठाणे रेलवे प्रशासन के चलते उपेक्षित है यात्री प्रतीक्षालय

रेल्वे विभाग हमेशा यात्रियों की सुविधा के लिए कुछ नया करने का प्रयास करता है, लेकिन अधिकारियों या कर्मचारियों की निष्क्रियता के कारण इन सुविधाओं से लोग वंचित रह जाते हैं। ऐसा ही कुछ देखने को मिला सर्वाधिक भीड़-भाड़ वाले उपनगरीय रेल्वे स्टेशन के रूप में चर्चित ठाणे में, जहां प्लेटफॉर्म नंबर-२ पर यात्रियों के लिए प्रतीक्षालय बनाया गया, जिसका उद्घाटन पिछले महीने २३ जुलाई को सांसद राजन विचारे के हाथों किया गया। लेकिन इसका लोग इस्तेमाल नहीं कर पाते हैं और यह खाली रहता है। मैंने देखा है कि कई बार रेलवे पुलिस वाले इस प्रतीक्षालय में बैठे लोगों को बाहर निकाल देते हैं। इस वजह से यह खाली रहता है। मेरा सवाल है कि इतना खर्च करके बनाए गए इस प्रतीक्षालय का इस्तेमाल नहीं होगा तो इसे बनाकर क्या फायदा? लोग इस प्रतीक्षालय के बनने का काफी समय से इंतजार कर रहे थे। ठाणे में फास्ट और स्लो लोकल के अलावा लंबी दूरी की गाड़ियां भी रुकती हैं। ठाणे से भारी संख्या में लोग लंबी दूरी की ट्रेन में सफर करते हैं। कई बार ट्रेन आने मे देरी हो जाती है, ऐसे समय में लोग प्लॅटफॉर्म पर ही बैठे रहते थे, जिस वजह से यहां भीड़ बढ़ जाती थी। इसी के मद्देनजर प्रतीक्षालय का निर्माण किया गया। लेकिन रेल विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों की निष्क्रियता के कारण लोग इसका इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं।

अन्य समाचार