मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनासंपादक के नाम पत्र : आधे झुके हुए तिरंगों को हटाया जाए

संपादक के नाम पत्र : आधे झुके हुए तिरंगों को हटाया जाए

आधे झुके हुए तिरंगों को हटाया जाए
मैं `दोपहर का सामना’ के माध्यम से मीरा-भायंदर महानगरपालिका के आयुक्त दिलीप ढोले और मीरा-भायंदर, वसई-विरार पुलिस आयुक्तालय के आयुक्त सदानंद दाते का ध्यान शहर में आधा झुके राष्ट्रीय ध्वज तिरंगों की तरफ आकर्षित कराना चाहता हूं। महोदय, देश की आजादी को ७५ वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में ब़ड़े ही धूमधाम से आजादी का अमृत महोत्सव पूरे देश में मनाया गया। पीएम मोदी की संकल्पना से घर-घर तिरंगा, हर घर तिरंगा का व्यापक प्रचार-प्रसार किया गया। लेकिन आम नागरिकों को ध्वजारोहण के नियमों की पूर्ण जानकारी नहीं होने के कारण अधिकांश लोगों ने आम झंडे की तरह तिरंगे को भी आधा झुका हुआ लगाया है। यह राष्ट्रीय ध्वज का अपमान है, क्योंकि विशेष परिस्थितियों में राष्ट्र शोक घोषित होने पर ही तिरंगा को आधा झुकाया जाता है। आज भी शहर में सड़कों किनारे या घरों की बालकनी में तिरंगा आधा झुका हुआ लगा है। अत: आपसे निवेदन है कि इन तिरंगों को सम्मानपूर्वक वहां से हटाया जाए।
-अजीम तंबोली, भायंदर (प.)

बच्चों को दुर्घटना से बचाएं
मैं `दोपहर का सामना’ के माध्यम से आरटीओ का ध्यान वसई-विरार शहर में चल रहे स्कूल बस व वैन की तरफ आकर्षित कराना चाहता हूं। महोदय, राज्य में स्कूल खुल गए हैं। समय के अभाव से पालक अपने बच्चों को स्कूल बस या फिर निजी वाहन से स्कूल भेज रहे हैं। लेकिन स्कूल प्रशासन की लापरवाही और निजी वाहनों द्वारा अधिक पैसे कमाने के चक्कर में क्षमता से अधिक बच्चों को लेकर सफर हो रहा है। ऐसे में कभी भी अनहोनी हो सकती है। आरटीओ विभाग, ट्रैफिक विभाग और जिला अधिकारी से निवेदन है कि ऐसे वाहन चालकों पर कानूनी कार्रवाई की जाए, जिससे बच्चों को भविष्य में होनेवाली दुर्घटना से बचाया जा सके।
-अखिलेश दुबे, नालासोपारा

अन्य समाचार