मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनासंपादक के नाम पत्र :  गंदा पानी पीने को मजबूर हैं परेलवासी

संपादक के नाम पत्र :  गंदा पानी पीने को मजबूर हैं परेलवासी

कहा जाता है कि जहां स्वच्छता होती है, वहां स्वास्थ्य भी बेहतर होता है। लेकिन परेल स्टेशन (पूर्व) के बाहर स्थित कैंटीन के पास इसके ठीक उल्टा देखने को मिल रहा है। यहां मौजूद कैंटीन में पानी की सप्लाई करनेवाले पाइप के पास ही मौजूद बड़ी टंकी से पानी आता है। इसी पानी का इस्तेमाल खाद्य पदार्थ, चाय-शरबत बनाने और पीने के लिए किया जाता है। लेकिन इस टंकी के आस-पास कचरे का अंबार लगा हुआ है। तस्वीर में आपको दिखाई देगा कि किस तरह इस टंकी के अगल-बगल घास और जंगली पौधे उग आए हैं। इन्हीं के बीच यह पानी की टंकी मौजूद है। साथ ही पानी की बोतलें, कागज के ग्लास और कप भी यहां पड़े हुए दिखाई देते हैं। यह परिसर देखकर पता चलता है कि काफी दिनों से यहां पर साफ-सफाई भी नहीं हुई है। इसी के बीच से टंकी की पाइप भी गुजरती है। इससे पानी में कचरे के घुलने का अंदेशा व्यक्त किया जा सकता है। यदि कचरे का अंश पानी में जाएगा तो निश्चित ही लोग बीमार पड़ सकते हैं। इसलिए संबंधित प्रशासन से मेरी विनती है कि कृपया इस ओर गंभीरता से ध्यान दे और टंकी के आस-पास और टंकी की सफाई समय पर हो और इस पर नजर रखी जाए, ताकि कोई इस पानी को पीने से बीमार न पड़े।
-संतोष सक्सेना, परेल

अन्य समाचार