मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनासंपादक के नाम पत्र : यह कैसी देशभक्ति?

संपादक के नाम पत्र : यह कैसी देशभक्ति?

हर हिंदुस्थानी के मन में तिरंगे के लिए एक इज्जत और एक सम्मान है। अधिकांश लोग अपने वाहनों, दुकानों और घरों में तिरंगा लगाते हैं। तिरंगे का अपमान होने पर दंड का भी प्रावधान किया गया है। झंडे का अपमान करने पर पुलिस को किसी अज्ञात व्यक्ति का भी फोन चला जाता है तो पुलिस जांच में जुट जाती है। प्राइवेट, सरकारी, अर्ध सरकारी कार्यालयों पर तिरंगा फहराया जाता है। बीच में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘हर घर तिरंगा’ की अपील की थी। इस अपील को मानते हुए भाजपा के कई नेताओं और कार्यकर्ताओं ने उल्हासनगर में भी कई स्थानों पर तिरंगा फहराया था, लेकिन वे झंडे आज भी वैसे ही लगे हुए हैं, उन्हें उतारा नहीं गया है। तिरंगा हवा के झोंके से मुड़ गया है, उसकी डंडी लटक गई है, लेकिन उसकी तरफ न तो प्रशासन और न ही भाजपा के नेताओं का ध्यान जा रहा है। जबकि नियमानुसार तिरंगे को ९० डिग्री पर फहराना चाहिए। तिरंगा कहीं से झुका हुआ या फटा हुआ नहीं होना चाहिए। अपने आपको सच्चा देशभक्त साबित करने वाले भाजपाइयों को तिरंगा लगाने से पहले उसकी आचार संहिता, सम्मान के विषय में जानना चाहिए। पुलिस प्रशासन व मनपा सम्मान के साथ खिलवाड़ करने वाले लोगों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करे, साथ ही लोगों में जागरूकता भी फैलानी चाहिए।
सुरेश चौहान, उल्हासनगर

अन्य समाचार