मुख्यपृष्ठअपराधलखीमपुर में नाबालिग दलित बहनों से दुराचार के बाद हत्या के आरोपी ...

लखीमपुर में नाबालिग दलित बहनों से दुराचार के बाद हत्या के आरोपी  को उम्रकैद की सजा!


मनोज श्रीवास्तव / लखनऊ

यूपी में लखीमपुर खीरी के निघासन गैंगरेप और मर्डर केस में ऐतिहासिक फैसला आया है। मामले में एक नाबालिग आरोपी को कोर्ट ने दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई है। निघासन में सितंबर 2022 को दो बहनों को गैंगरेप के बाद जान से मार दिया गया था, फिर उनके शवों को पेड़ से लटका दिया गया था। इस जघन्य कांड में कुल 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। इनमें से एक नाबालिग था। उसे गिरफ्तारी के बाद बाल सुधार गृह में रखा गया था। इनमें से चार को पहले ही दोषी करार दिया जा चुका है। अब नाबालिग को भी दोषी करार देते हुए फास्ट ट्रैक कोर्ट ने ताउम्र जेल में रहने का आदेश सुना दिया है। निघासन गैंगरेप और मर्डर केस में पांचवें अभियुक्त को धारा 302/34, 323, 452, 363, 376 DA, 201 IPC, 5G/6 पॉक्सो एक्ट में दोषी करार दिया गया है। उस पर 46 हजार रुपए का अर्थदंड भी लगाया गया है।
बता दें कि लखीमपुर के निघासन में 14 सितंबर 2022 को दो सगी बहनों की लाश उनके घर से कुछ दूर एक पेड़ पर लटकी मिली थी। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पता चला कि उन दोनों की गैंगरेप के बाद गला दबाकर हत्या की गई थी। उसके बाद उनके शव पेड़ पर लटकाए गए थे। इस वारदात के बाद 24 घंटे के अंदर पुलिस ने 6 युवकों को गिरफ्तार कर लिया था। प्राथमिकी दर्ज कर केस को फास्ट कोर्ट में चलाया गया। अब तक इस मामले में कुल 5 अभियुक्तों को सजा सुनाई जा चुकी है। तीन लोगों को उम्रकैद, वहीं दो लोगों को 6-6 वर्ष की सजा सुनाई गई है।

अन्य समाचार

लालमलाल!