मुख्यपृष्ठग्लैमरजिंदगी एक संघर्ष है!-ऐलन कपूर

जिंदगी एक संघर्ष है!-ऐलन कपूर

एस.पी. यादव।  हिंदी सिनेमा में निरंतर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रहे अभिनेता ऐलन कपूर इस बार वेब सीरीज `स्वांग’ से दर्शकों के बीच लोकप्रिय हो रहे हैं। ऐलन इससे पूर्व कई हिंदी फिल्मों, टीवी सीरियलों एवं म्यूजिक वीडियो के जरिए अपने दमदार अभिनय से दर्शकों को आकर्षित कर चुके हैं। पेश है, ऐलन कपूर से सोमप्रकाश `शिवम’ की हुई बातचीत के प्रमुख अंश-

वेब सीरीज `स्वांग’ में निभाए अपने किरदार के बारे में कुछ बताएंगे?
इस सीरीज में मैं एक पत्रकार की भूमिका में हूं, जो अपने प्यार को खोजते-खोजते हिमाचल की धर्मशाला में पहुंच जाता है और उसे खोज निकालता है। हिमाचल की खूबसूरत वादियों के बीच माइनस डिग्री तापमान में शूटिंग करने का एक अलग ही अनुभव रहा।

कई नामचीन फिल्मों में काम करने के बाद भी आपको बॉलीवुड में आज संघर्ष करना पड़ रहा है?
जिंदगी एक संघर्ष है, संघर्ष से कभी मुंंह नहीं छिपाना चाहिए क्योंकि संघर्ष से ही जीवन है। संघर्ष के बिना व्यक्ति सफल नहीं हो सकता इसलिए हमें अच्छा काम पाने के लिए संघर्ष तो करना ही पड़ेगा। फिल्म `सिंह साहब द ग्रेट’ और `जीनियस’ जैसी बड़ी फिल्मों में काम पाना मेरे संघर्ष का ही एक हिस्सा रहा जो मैं वहां तक पहुंचा।

निरंतर टीवी इंडस्ट्री में मिल रही लोकप्रियता को आप कैसे देखते हैं?
ये मेरे लिए बहुत ही गौरव की बात है जो टीवी इंडस्ट्री में मुझे कई बड़े शोज में काम करने का अवसर मिला और दर्शकों ने मेरे काम को खूब सराहा। मेरे करियर की शुरुआत `नियति’ से हुई और पहचान `ससुराल सिमर का’ से मिली। वहीं `दीया और बाती’, `पिया बसंती’ और `प्यार की लुका छिपी’ में निभाए मुख्य किरदार ने भी करियर को ऊंची उड़ान दी है।

आपके अब तक कई वीडियो एलबम रिलीज हुए लेकिन यहां भी कोई बड़ी सफलता न मिल पाने को आप वैâसे देखते हैं?
देखिए वीडियो एलबम एक कलाकार की लोकप्रियता से नहीं, बल्कि गाने के अच्छे बोल पर सफल होता है क्योंकि जितना अच्छा गाना होगा वो उतना ही ज्यादा सफल होगा। गाने के चलते ही उसमें अभिनय करनेवाले कलाकारों की भी पहचान बढ़ जाती है।

आप एक साधारण परिवार से ताल्लुक रखते हैं ऐसे में क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड नेपोटिजम का शिकार है?
ये मुद्दा काफी कंट्रोवर्सियल बना हुआ है इसमें कोई संदेह नहीं नेपोटिज्म आपको अवसर तो दिला सकता है लेकिन स्टार नहीं बना सकता। फिल्मी परिवार के बच्चों को काम आसानी से मिल जाना स्वाभाविक है क्योंकि उनके माता-पिता पहले से ही जब किसी व्यवसाय में जुड़े हुए हैं तो उनके बच्चों को उसमें जगह बनाने में थोड़ी मदद मिल जाती और कुछ नहीं।

आज बॉलीवुड में नए लड़कों को करियर स्थापित करना कितना आसान होता है?
बिल्कुल भी आसान नहीं होता, बल्कि बहुत ज्यादा मुश्किलों का सामना करना पड़ता है खास करके उन्हें जिनका बॉलीवुड में कोई जानकार नहीं होता। यहां पर हर किसी को काम पाने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है, उसके बाद परिणाम किस्मत पर निर्भर करता है।

आज बॉलीवुड में युवाओं के बीच बढ़ते नशे के प्रचलन को आप वैâसे देखते हैं?
मैंने पर्सनली तो ये सब नहीं देखा है लेकिन इसके बारे में मीडिया में पढ़ा और टीवी पर जरूर देखा है। मेरे खयाल से सरकार ने जब इस पर रोक लगा रखी है तो फिर युवाओं को इसके सेवन से परहेज करना चाहिए क्योंकि नशा व्यक्ति को अंदर से खोखला कर देता है।

अन्य समाचार