मुख्यपृष्ठनए समाचारकेंद्र के कारण राज्य में लोडशेडिंग संकट! ....केंद्र नहीं कर रहा है...

केंद्र के कारण राज्य में लोडशेडिंग संकट! ….केंद्र नहीं कर रहा है पर्याप्त कोयले की सप्लाई

•  राज्य में अंधेरा छाने का खतरा
• कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले का आरोप
सामना संवाददाता / मुंबई । कोयले की कमी से राज्य में बिजली संकट पैदा हो गया है लेकिन केंद्र सरकार जान-बूझकर पर्याप्त कोयले की आपूर्ति नहीं कर रही है, वहीं केंद्रीय जांच एजेंसी के माध्यम से महाविकास आघाड़ी सरकार के नेताओं के खिलाफ लगातार कार्रवाई की जा रही है। महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नाना पटोले ने इन मुद्दों को लेकर राकांपा अध्यक्ष शरद पवार के साथ शुक्रवार को चर्चा की। शरद पवार से मुलाकात के बाद पत्रकारों से बात करते हुए नाना पटोले ने कहा कि राज्य में गर्मी की वजह से जहां बिजली की मांग बढ़ी है, वहीं केंद्र सरकार राज्य को पर्याप्त कोयले की आपूर्ति नहीं कर रही है, जिसके परिणामस्वरूप महाराष्ट्र में लोडशेडिंग की समस्या खड़ी हो गई है। इन मुद्दों पर जल्द कदम उठाए जाने की जरूरत है। पटोले ने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से बाधा डालने की वजह से राज्य में अंधेरा छाने का खतरा मंडरा रहा है, वहीं केंद्रीय जांच एजेंसी लगातार राजनीतिक बदले की भावना से महाविकास आघाड़ी के नेताओं को निशाना बना रही है। केंद्र सरकार इस तरह का दबाव बनाकर महाविकास आघाड़ी सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रही है, लेकिन केंद्र सरकार की यह मनमानी ज्यादा दिनों तक नहीं चलेगी। जब केंद्रीय जांच एजेंसी माविआ नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करती है, तो भाजपा नेता कहते हैं कि जब कुछ गलत नहीं किया तो फिर डर क्यों रहे हैं?
इसी तरह जब भाजपा नेता प्रवीण दरेकर समेत अन्य लोगों ने कोई घोटाला नहीं किया है, तो उनको भी मुंबई पुलिस की कार्रवाई पर सवाल नहीं खड़ा करना चाहिए। उन्होंने कहा कि आनेवाले दो से तीन दिनों में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और महाविकास आघाड़ी के सभी प्रमुख नेता राज्य से जुड़े मुद्दों पर एक साथ बैठकर चर्चा करेंगे।
आईएनएस विक्रांत के बारे में पत्रकारों के एक सवाल का जवाब देते हुए नाना पटोले ने कहा कि ‘विक्रांत बचाओ’ अभियान के तहत भाजपा नेताओं ने जो पैसा जमा किया था, वह आखिर कहां गया? भाजपा नेताओं को इसका जवाब देना चाहिए। ऐसा दावा किया जा रहा है कि पैसा राजभवन भेजा गया था लेकिन खुद राजभवन ने स्पष्ट किया है कि उन्हें ऐसा कोई फंड नहीं मिला है।

अन्य समाचार