मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनामां दुर्गा सिंह वाहिनी!

मां दुर्गा सिंह वाहिनी!

वर दे वर दे वर दे मां
तेरा सबल सपूत हो दिखलाऊं
उस साहस शक्ति से भर दे मां
वर दे वर दे वर दे मां
कह अपने को कायर कपूत
हीन-दीन बलहीन पूत
न झुकने दूंगा तेरी आंखें
चाहे करना पड़े जीवन आहूत
हस्त कमल आज सर मेरे
धर दे धर दे धर दे मां
वर दे वर दे वर दे मां
नहीं रास्ता आसान मांगता
नहीं सुखों की खान मांगता
जहां गंभीर गर्जना सिंह करें
वहां मैं अपना प्राण टांगता
ला प्रचंड ज्वाला छाती मेरे
भर दे भर दे भर दे मां
वर दे वर दे वर दे मां
राम सदृश गंभीर धीर
विकट धनुर्धर अदम्य वीर
हो सकूं न चाहे पुरुषोत्तम
मर्यादा खातिर रहूं अधीर
बस इतना दुलार मुझपे आज
कर दे कर दे कर दे मां
वर दे वर दे वर दे मां।
-डॉ. एम.डी. सिंह

अन्य समाचार