मुख्यपृष्ठधर्म विशेषकल्याणकारी हैं मां महागौरी

कल्याणकारी हैं मां महागौरी

आज सोमवार को नवरात्रि का आठवां दिन है। शारदीय नवरात्रि के आठवें दिन मां के आठवें स्वरूप मां महागौरी की पूजा-अर्चना की जाती है। नवरात्रि के दौरान मां के नौ रूपों की पूजा की जाती है। नवरात्रि के आठवें दिन का महत्व बहुत अधिक होता है। इस दिन कन्या पूजन भी किया जाता है। मां महागौरी का रंग अत्यंत गोरा है। इनकी चार भुजाएं हैं और मां बैल की सवारी करती हैं। मां का स्वभाव शांत है। देवीभागवत पुराण के अनुसार नवरात्रि की अष्टमी तिथि को मां को नारियल का भोग लगाने की परंपरा है। भोग लगाने के बाद नारियल को या तो ब्राह्मण को दें अन्यथा प्रसाद रूप में वितरण कर दें। मां महागौरी की पूजा और व्रत करने पर वे अपने भक्तों के दुखों को दूर करती हैं। मां महागौरी के मंत्र का जाप करने से जीवन में सुख, समृद्धि, सफलता, उन्नति और तरक्की​ मिलती है। मान्यता है कि मां महागौरी की आरती और बीज मंत्र का जाप कर उनकी कृपा पाई जा सकती है। पूजा के अंत में मां महागौरी की आरती कपूर या गाय के घी का दीपक जलाकर करनी चाहिए।
मां महागौरी मंत्र
मंत्र: या देवी सर्वभू‍तेषु मां गौरी रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:
पूजा विधि
सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत्त होने के बाद साफ-स्वच्छ वस्त्र धारण करें। मां की प्रतिमा को गंगाजल या शुद्ध जल से स्नान कराएं। मां को सफेद रंग के वस्त्र अर्पित करें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मां को सफेद रंग पसंद है। मां को स्नान कराने के बाद सफेद पुष्प अर्पित करें। मां को रोली, कुमकुम लगाएं। मां को मिष्ठान, पंच मेवा, फल अर्पित करें।

अन्य समाचार