मुख्यपृष्ठनए समाचारमहिला टीचर की शर्मनाक हरकत! ...मासूम को दूसरे बच्चों से पिटवाया

महिला टीचर की शर्मनाक हरकत! …मासूम को दूसरे बच्चों से पिटवाया


सामना संवाददाता / मुजफ्फरनगर

जिले में एक महिला टीचर की शर्मनाक हरकत सामने आई है। यहां एक प्राइवेट स्कूल में एक मुस्लिम बच्चे को क्लास के ही दूसरे बच्चों से पिटवाया गया। इसका वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो गया है। वीडियो में साफ दिख रहा है कि वो मुस्लिम लड़का एक तरफ खड़ा है, तभी महिला टीचर क्लास में से कुछ बच्चों को बुलाती है और उनसे मुस्लिम लड़के को थप्पड़ मारने को कहती है। इसके बाद दो लड़के उठकर आते हैं और उस मुस्लिम लड़के को थप्पड़ जड़ देते हैं। मुस्लिम बच्चे की आंखों में आंसू हैं और वह रोए जा रहा है, लेकिन मैडम को बिल्कुल भी तरस नहीं आ रहा है।
मिली जानकारी के अनुसार, यह मामला मुजफ्फरनगर के मंसूरपुर थाना क्षेत्र खुब्बापुर गांव का है। यहां एक तृप्ता त्यागी नामक महिला टीचर स्कूल चलाती हैं। वायरल वीडियो में मैडम अपनी कुर्सी पर बैठी हैं। उसके पास एक बच्चा खड़ा हुआ है, तभी वो दो बच्चों को बुलाती हैं और उसे थप्पड़ मारने को कहती हैं। इस घटना का राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो ने संज्ञान लेते हुए मामले की पूरी जानकारी मांगी है।
विपक्षी पार्टियों ने साधा निशाना
इस घटना के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भाजपा पर निशाना साधा है। इसके अलावा एमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने भी वीडियो शेयर करते हुए भाजपा पर हमला बोला है। मामला बढ़ने पर मुजफ्फरनगर पुलिस ने कार्रवाई करने की बात कही है।
पिता ने बच्चे को स्कूल से निकाला
महिला टीचर की इस शर्मनाक हरकत पर मुस्लिम बच्चे के पिता ने उसे स्कूल से निकाल लिया है। बच्चे के पिता ने कहा कि टीचर ने बच्चों के बीच विवाद करवाया था। हमने समझौता कर लिया है। मैं शिक्षक के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं कराना चाहता।

थप्पड़ वीडियो वायरल करने वालोें पर कार्यवाही की चेतावनी
यूपी सरकार द्वारा गठित बाल कल्याण समिति मुजफ्फरनगर के अध्यक्ष डॉ. राजीव कुमार ने मीडिया को जारी बयान में कहा कि किसी भी पीड़ित/देखभाल और संरक्षण वाले बालक की पहचान उजागर करना किशोर न्याय अधिनियम २०१५ की धारा ७४ का उल्लंघन है। इस हेतु ६ माह का कारावास या दो लाख रुपए का जुर्माना या दोनों से दंडित हो सकते हैं। शोशल मीडिया में वायरल मुजफ्फरनगर के बालक के प्रकरण में किशोर न्याय अधिनियम २०१५ की धारा ७६ के एवं अन्य सुसंगत धाराओं में कार्यवाही सुनिश्चित की जा रही है। उन्होंने सोशल मीडिया से पहचान वाले वीडियो हटाने को कहा है, अन्यथा कार्यवाही होगी।

‘ये भाजपा का फैलाया हुआ केरोसिन’
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इस वीडियो के सामने आने पर कहा कि मासूम बच्चों के मन में भेदभाव का जहर घोलना, स्कूल जैसे पवित्र स्थान को नफरत का बाजार बनाना–एक शिक्षक देश के लिए इससे बुरा कुछ नहीं कर सकता। ये भाजपा का पैâलाया वही केरोसिन है जिसने भारत के कोने-कोने में आग लगा रखी है। बच्चे भारत का भविष्य हैं -उनको नफरत नहीं, हम सबको मिल कर मोहब्बत सिखानी है।

अन्य समाचार