मुख्यपृष्ठसमाचारजय लंकेश के जय घोष के साथ हुई त्रिकालदर्शी दशानन की महाआरती

जय लंकेश के जय घोष के साथ हुई त्रिकालदर्शी दशानन की महाआरती

कमल कांत उपमन्यु / मथुरा
लंकेश भक्त मंडल के द्वारा त्रिकालदर्शी दशानन की बुधवार को यमुना तलहटी स्थित शिव मंदिर में पूजा-अर्चना कर महाआरती की गई। पुतला दहन करने की कुप्रथा को तत्काल बंद करने की सरकार से मांग की गई। हर वर्ष रावण के पुतला दहन की कुप्रथा को भगवान श्री राम के आदर्शों का अपमान बताया गया। रामलीला मैदान में लंकेश का भव्य मंदिर बनवाने के लिए तैयारी की जा रही है। बता दें कि यमुना पार स्थित पूल के पास यमुना तलहटी में बने शिव मंदिर में दशहरा के अवसर पर रावण के स्वरूप के द्वारा पहले महादेव जी का अभिषेक किया गया। लंकेश भक्त मंडल के द्वारा फिर दशानन की पूजा-अर्चना कर महाआरती की गई। इस मौके पर लंकेश भक्त मंडल के अध्यक्ष ओमवीर सारस्वत एडवोकेट ने कहा कि भगवान शिव के प्रिय भक्त त्रिकालदर्शी महाराज रावण का पुतला दहन नहीं करना चाहिए। प्रकांड विद्वान ब्राह्मण रावण की विद्वता को जब भगवान श्री राम ने मानकर उनसे लंका पर विजय प्राप्त करने के लिए सेतु बंधु रामेश्वरम जीव स्थापना के समय रावण से पूजा कराई थी और लंका पर विजय प्राप्त करने का आशीर्वाद लिया था। जब भगवान श्री राम ने रावण की विद्वता को मानकर उनको अपना आचार्य नियुक्त कर लिया था तो अब समाज के चंद लोग आखिर क्यों रावण का पुतला हर साल दहन कर भगवान श्री राम का अपमान करते हैं। भगवान श्री राम के आदर्शों को मानकर हमें पुतला दहन करने की कुप्रथा पर तुरंत रोक लगा देनी चाहिए। हिंदू संस्कृति में एक व्यक्ति का अंतिम संस्कार एक बार ही होता है किसी मरे हुए व्यक्ति का पुतला दहन नहीं होता है।

अन्य समाचार