मुख्यपृष्ठनए समाचारमहाराष्ट्र विधानसभा अध्यक्ष का लोकतंत्र का गला घोंटनेवाला फैसला! ... डॉ. उदय...

महाराष्ट्र विधानसभा अध्यक्ष का लोकतंत्र का गला घोंटनेवाला फैसला! … डॉ. उदय नारकर का अध्यक्ष पर निशाना

सामना संवाददाता / मुंबई
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के राज्य कमिटी के प्रदेश सचिव डॉ. उदय नारकर ने कल विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर पर निशाना साधते हुए कहा कि महाराष्ट्र विधानसभा अध्यक्ष द्वारा दिए गए फैसले ने लोकतंत्र का पूरी तरह से वस्त्रहरण कर दिया है। इसके साथ ही अध्यक्ष किसके इशारे पर काम कर रहे हैं, यह सबूत अध्यक्ष ने प्रमाणित भी कर दिया है।
सुप्रीम कोर्ट द्वारा अवैध घोषित सरकार आज तक दिल्लीवासियों के आदेश से ही स्थापित हुई है। अध्यक्ष का यह फैसला बताता है कि विधानसभा अध्यक्ष का व्यवहार कठपुतली जैसा है, जिन लोगों ने केंद्रीय जांच एजेंसियों और पूंजीपतियों द्वारा दिए गए थैलों की मदद से राज्य की सत्ता पर कब्जा कर लिया है। उन्होंने राजनीतिक व्यवस्था को भ्रष्ट करने का कोई मार्ग नहीं छोड़ा है। यह महाराष्ट्र की लोकतांत्रिक परंपराओं की त्रासदी है। संविधान को रौंदनेवाले फैसले के साथ मृत अवस्था की ओर बढ़ रही इस सरकार को विधानसभा अध्यक्ष ने अस्थाई जीवनदान दे दिया है। यह सरकार वेंटिलेटर पर है और अधिक दिन तक टिक नहीं पाएगी। आनेवाले चुनाव में महाराष्ट्र की जनता भाजपा के नेतृत्व वाले नीति भ्रष्ट राजनीतिक तमाशे का खेल बंद किए बिना नहीं रहेगी। इसके लिए जनता को अभी से खुद को साबित करना होगा, ऐसा भी भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के राज्य कमिटी के प्रदेश सचिव डॉ. उदय नारकर ने कहा।

विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर का नार्को टेस्ट करो! … शिवसेना विधायक नितिन देशमुख की मांग

विधायक अयोग्यता मामले का परिणाम क्या होगा, यह सभी को मालूम था। विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर का नार्को टेस्ट कराया जाए, तो सत्ता पक्ष की सारी साजिशों का पर्दाफाश हो जाएगा। शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) पक्ष के विधायक नितिन देशमुख ने व्यंग्यात्मक टिप्पणी करते हुए यह मांग की। इस ऐतिहासिक फैसले के लिए राहुल नार्वेकर को सुप्रीम कोर्ट का जज बनाया जाना चाहिए। राहुल नार्वेकर की आलोचना करते वक्त नितिन देशमुख ने व्यंग्यात्मक लहजे में ऐसा भी कहा। राज्य में विधायक अयोग्यता मामले पर विधानसभा अध्यक्ष ने बुधवार को फैसला सुनाया। इस फैसले पर राज्यभर में गुस्सा जाहिर किया जा रहा है। इसी कड़ी में अकोला विधायक नितिन देशमुख ने विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर की आलोचना की और उनके नार्को टेस्ट की मांग की। उन्होंने कहा, ‘सभी को पहले ही अंदाजा हो गया था कि नतीजा क्या होगा।’ इसलिए राहुल नार्वेकर के नतीजे से किसी को झटका नहीं लगा। अगर उनका नार्को टेस्ट कराया जाए तो सारी साजिशें सामने आ जाएंगी। ये सारी साजिशें शुरू से ही रची गर्इं थीं। राहुल नार्वेकर के फैसले को एक उदाहरण के तौर पर लिया जाना चाहिए। उन्हें सुप्रीम कोर्ट का जज बना दिया जाए तो नार्वेकर देश के लिए अच्छे परिणाम देंगे। विधायक नितिन देशमुख ने यह भी व्यंग्यात्मक मांग की कि केंद्र सरकार को कानून में संशोधन कर नार्वेकर को सुप्रीम कोर्ट का जज बना देना चाहिए। हालांकि, नतीजे विपरीत आने के बाद भी उद्धव ठाकरे ने अगली योजना बना ली है। शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे का भविष्य उज्ज्वल है। वे ४० गद्दार विधायक आगामी चुनाव में कहीं नजर नहीं आएंगे। मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा था कि अगर ४० विधायकों में से एक भी गिरा तो मैं खेती करूंगा। मुख्यमंत्री को अपनी बात पर कायम रहना चाहिए, उनके भी वही दिन आएंगे, ऐसा भी देशमुख ने कहा।
‘मतदाताओं का परिणाम उद्धव ठाकरे के पक्ष में होगा’
मतदाता शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे के साथ हैं। मतदाताओं की सहानुभूति उनके साथ है। मतदाता चुनाव में परिणाम उद्धव ठाकरे के पक्ष में देंगे, ऐसा विश्वास नितिन देशमुख ने व्यक्त किया।

अन्य समाचार