मुख्यपृष्ठनए समाचारविश्व प्रसिद्ध समुद्र संग्रहालय के लिए गुजरात को महाराष्ट्र ने दिया पैसा!...

विश्व प्रसिद्ध समुद्र संग्रहालय के लिए गुजरात को महाराष्ट्र ने दिया पैसा! राज्य कोष से ३९ करोड़ रुपए निधि पड़ोसी राज्य को दी गई

सामना संवाददाता / मुंबई
दुनियाभर से पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए गुजरात में विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा सरदार वल्लभभाई पटेल स्मारक को बनाने के बाद अब गुजरात के लोथल में अंतरराष्ट्रीय समुद्री संग्रहालय बनाने की तैयारी शुरू है। लेकिन गुजरात में बनाए जानेवाले इस संग्रहालय के लिए महाराष्ट्र भी बड़े पैमाने पर पैसा दे रहा है। गुजरात के उस संग्रहालय के लिए महाराष्ट्र के बंदरगाह विभाग ने ३९ करोड़ रुपए का फंड दिया है। महाराष्ट्र का यह फंड गुजरात के लोथल को अंतरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल बनाने के उद्देश्य से दिया गया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार, केंद्रीय बंदरगाह, जहाजरानी और जल परिवहन मंत्रालय की ओर से गुजरात के लोथल में राष्ट्रीय समुद्री विरासत परिसर यानी राष्ट्रीय समुद्री विरासत संग्रहालय स्थापित किया जा रहा है। यह भारत की समृद्ध और विविध समुद्री विरासत को प्रदर्शित करेगी, इसमें देश के हर राज्य की शस्त्रागार विरासत का एक अलग हॉल बनाया जाएगा। महाराष्ट्र के पास विशाल शस्त्रागार विरासत है। इस संग्रहालय के माध्यम से यह शस्त्रागार विरासत नए सिरे से देश के सामने लाई जाएगी।
पिछले साल फरवरी में केंद्रीय जहाजरानी मंत्री और बंदरगाह, जहाजरानी और जलमार्ग मंत्रालय की समिति के सदस्यों ने मुंबई का दौरा किया था। इस यात्रा के दौरान इस समिति ने मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के साथ ‘वर्षा’ बंगले पर बैठक की थी। बैठक में लोथल में प्रस्तावित राष्ट्रीय समुद्री विरासत संग्रहालय के बारे में जानकारी दी गई। इस संग्रहालय में महाराष्ट्र के सुरक्षा घेरे के बारे में जानकारी देने के लिए एक अलग हॉल बनाया जाएगा। राज्य के सांस्कृतिक कार्य विभाग की ओर से इसकी पूरी जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी। इस स्वतंत्र गैलरी के लिए राज्य के बंदरगाह विभाग द्वारा ३९.६ करोड़ रुपए का फंड उपलब्ध कराया जाएगा।
अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन स्थल
लोथल में राष्ट्रीय समुद्री संग्रहालय को एक बहुत ही विशेष परियोजना के रूप में विकसित किया जा रहा है। भारत की समृद्ध और विविध समुद्री विरासत को दुनिया के सामने प्रदर्शित किया जाएगा। इससे लोथल को विश्व स्तरीय अंतरराष्ट्रीय पर्यटनस्थल के रूप में उभरने में मदद मिलेगी। इस परियोजना के माध्यम से गुजरात सरकार पर्यटन क्षेत्र को बढ़ावा देने और क्षेत्र के आर्थिक विकास को गति देने की योजना बना रही है, लेकिन उसे पैसे की मदद महाराष्ट्र सरकार कर रही है। करीब साढ़े तीन हजार करोड़ रुपए की लागत से विकसित हो रहे इस कॉम्प्लेक्स का निर्माण मार्च २०२२ में शुरू हुआ था। इस परिसर में हड़प्पा वास्तुकला और जीवनशैली को प्रदर्शित करनेवाला लोथल मिनी मनोरंजन केंद्र, मेमोरियल थीम पार्क, मौसम संबंधी थीम पार्क, साहसिक खेल साथ ही शामिल हैं।

अन्य समाचार