मुख्यपृष्ठटॉप समाचारदिल्ली के आगे कभी नहीं झुकेगा महाराष्ट्र! सुप्रिया सुले का दावा 

दिल्ली के आगे कभी नहीं झुकेगा महाराष्ट्र! सुप्रिया सुले का दावा 

अब दमन दिवस मानने का समय आ गया है
डेढ साल में भी क्यों नहीं हुए मनपा चुनाव

सामना संवाददाता / मुंबई
भारत के ७७वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर राकांपा के प्रदेश कार्यालय में कार्यकारी अध्यक्ष एवं सांसद सुप्रिया सुले द्वारा कल ध्वजारोहण किया गया। इस अवसर पर सुप्रिया सुले ने कहा कि भारत के निर्माण में महाराष्ट्र का महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने दावे के साथ कहा कि महाराष्ट्र न कभी दिल्ली के आगे झुका है और न ही आगे कभी झुकेगा। उन्होंने सत्ताधारियों पर निशाना साधते हुए कहा कि आज
देश में तानाशाही का वातावरण निर्मित किया जा रहा है। संविधान और लोकतंत्र की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। यही कारण है कि डेढ़ साल हो गए लेकिन स्थानीय निकाय चुनाव नहीं कराए गए।
सुले ने कहा कि देश निर्माण में महाराष्ट्र का महत्वपूर्ण योगदान है। छत्रपति शिवाजी महाराज, शाहू, फुले, आंबेडकर के विचार न केवल महाराष्ट्र में बल्कि पूरे भारत में आगे बढ़ रहे हैं। हमें उन पर गर्व है। उन्होंने कहा कि मणिपुर की घटना देश के लिए सबसे पीड़ादायक और शर्मनाक घटना है। मणिपुर के मुख्यमंत्री इस्तीफा दें, यह हमारी मांग जारी रहेगी।
सुले ने कहा कि लोगों के बीच नफरत बढ़ाने का काम सत्तारूढ़ दल की ओर से किया जा रहा है। महंगाई, बेरोजगारी दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। पेट्रोल डीजल के रेट अभी और बढ़ेंगे। इसकी सार्वजनिक रूप से निंदा की जानी चाहिए। अब संभवत: दमन दिवस मनाने का समय आ गया है। आज स्वतंत्रता दिवस के दिन हमें महंगाई, बेरोजगारी, मणिपुर, महिला सुरक्षा जैसी चुनौतियों पर बात करनी पड़ रही है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है। जिस आजादी के लिए कई लोगों ने बलिदान दिया है, उसे हम किसी के दमन के अधीन नहीं होने देंगे। उन्होंने आगे कहा कि हमारी किसी से व्यक्तिगत लड़ाई नहीं, वैचारिक लड़ाई है। हमें सड़कों पर उतरकर अन्याय और असत्य के खिलाफ लड़ना होगा। वर्तमान सरकार के खिलाफ ‘इंडिया’ महागठबंधन पूरी ताकत के साथ आगे आनेवाली है। आगामी लोकसभा चुनाव में इंडिया आघाड़ी को बड़ी सफलता मिलेगी।

अन्य समाचार