मुख्यपृष्ठनए समाचारमहाविकास आघाड़ी एक है, कोरोना की ही तरह करेंगे, इस संकट का...

महाविकास आघाड़ी एक है, कोरोना की ही तरह करेंगे, इस संकट का भी सामना… विधानभवन में उद्धव ठाकरे की उपस्थिति में महाविकास आघाड़ी की हुई बैठक

सामना संवाददाता / मुंबई
महाविकास आघाड़ी के रूप में हम आज भी एक साथ हैं। हम में फूट नहीं पड़ी है। कोरोना जैसी महामारी का हमने एकजुट होकर सामना किया है। उस संकट के सामने यह संकट कुछ नहीं है। इसका भी सामना करेंगे। ऐसा विश्वास शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने कल विधानभवन में संपन्न हुई महाविकास आघाड़ी की बैठक के बाद व्यक्त किया।
शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे की उपस्थिति में कल महाविकास आघाड़ी के नेताओं की बैठक विधानभवन के शिवसेना कार्यालय में संपन्न हुई। इस बैठक में नेता प्रतिपक्ष अजीत पवार, राकांपा नेता जयंत पाटील, छगन भुजबल, दिलीप वलसे-पाटील, कांग्रेस नेता नाना पटोले, अशोक चव्हाण, बालासाहेब थोरात, भाई जगताप सहित शिवसेना के सभी विधायक उपस्थित थे। इस बैठक के बाद शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि कोरोना संकट के सामने यह संकट कुछ भी नहीं है। इस संकट का एक साथ मुकाबला करेंगे। इस दौरान मनपा चुनाव के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि जो निर्णय लेंगे, वह आप सभी को बताएंगे। सत्ता संघर्ष का मामला खंडपीठ को सौंपे जाने के मामले में उद्धव ठाकरे ने कहा कि हमें न्याय देवता पर पूरा भरोसा है। निष्पक्ष न्याय करने के लिए ही न्याय की देवी की आंखों पर पट्टी होती है। जब तक न्याय देवता और जनता ये दोनों स्तंभ मजबूत हैं, तब तक देश में लोकतंत्र रहेगा और तानाशाही नहीं टिकेगी। शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे जब विधानभवन पहुंचे तो उन्होंने विधान परिषद की उपसभापति नीलम गोNहे के कार्यालय का दौरा किया। इसी तरह उन्होंने विधान परिषद में विपक्ष के नेता अंबादास दानवे के कार्यालय का भी दौरा किया। इस समय दानवे ने उद्धव ठाकरे से अपनी कुर्सी पर बैठने का अनुरोध किया। लेकिन उन्होंने विनम्रता से उस सीट पर बैठने से मना कर दिया। इस अवसर पर उन्होंने एक सांकेतिक बयान दिया कि वे नहीं चाहते कि दानवे लंबे समय तक विपक्षी दल नेता पद की कुर्सी पर ही बैठे रहें।

अन्य समाचार