मुख्यपृष्ठसमाचारअजान-हनुमान चालीसा के बीच महंगाई डायन!

अजान-हनुमान चालीसा के बीच महंगाई डायन!

 वाराणसी में सपा नेता ने घर पर लगवाया लाउडस्पीकर
 सुबह-शाम महंगाई-बेरोजगारी पर बज रहा है गाना
उमेश गुप्ता / वाराणसी। धर्म और संस्कृति के लिए दुनियाभर में पहचान रखने वाला बनारस शहर इस समय अजान और हनुमान चालीसा को लेकर विवाद उठने से सुर्खियों में है। इस विवाद में साधु-संतों और मुस्लिम धर्मगुरुओं के बाद अब सपा नेता की भी एंट्री हो गई है. बनारस के लक्सा क्षेत्र निवासी सपा नेता रविकांत विश्वकर्मा ने अपनी छत पर लाउडस्पीकर लगवाए हैं, जिसके माध्यम से वह रोजाना सुबह और शाम के समय हनुमान चालीसा या अजान नहीं बल्कि महंगाई डायन का गाना बजा रहे हैं। जानकारी के अनुसार सपा नेता रविकांत विश्वकर्मा ने अपनी छत पर लाउड स्पीकर से सुबह और शाम के समय `महंगाई डायन खाए जात हौ…’ बजा रहे है। वह इस गानें को क्षेत्र की जनता को सुनाकर महंगाई, बेरोजगारी और शिक्षा-स्वास्थ्य के क्षेत्र में सरकारी तंत्र की विफलता के प्रति आगाह कर रहे हैं। उनका कहना है कि हनुमान चालीसा लाउडस्पीकर के माध्यम से सुनाकर जनता को असली मुद्दों से गुमराह करने की कोशिश की जा रही है।
सपा नेता ने छेड़ा नया राग
सपा नेता रविकांत का कहना है कि अजान और हनुमान चालीसा का मसला तो जानबूझकर इसलिए उछाला गया है ताकि बुनियादी समस्याओं की ओर जनता का ध्यान ही न जाए। तेज अजान का जवाब हनुमान चालीसा के लाउडस्पीकर द्वारा दिए जाने के पीछे बस एक ही कारण है कि जनता महंगाई-बेरोजगारी जैसे मुद्दों पर भटक जाए और धर्म की राजनीति में उलझकर अपने अधिकारों के प्रति सजग न रह पाए। उन्होंने कहा कि सिर्फ सांसों का थम जाना ही मृत्यु नहीं है। वह व्यक्ति भी मरा हुआ है जिसमें गलत को गलत कहने की हिम्मत नहीं होती है।
वास्तविक मुद्दों से भटका रही है भाजपा
आज देश में मुख्य मुद्दा महंगाई, बेरोजगारी, अच्छी शिक्षा, बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं और सुरक्षा है। लाउड स्पीकर से सुनाई देने वाली अजान और हनुमान चालीसा नहीं है। सपा नेता ने कहा कि मुद्दे हमेशा जिंदा रहेंगे, क्योंकि मैं भी जिंदा हूं। हम समाज की ज्वलंत समस्याओं को उठाते रहेंगे और जनता को यह भी बताते रहेंगे कि क्या सही और क्या गलत है। उन्हें इसके लिए भी आगाह करेंगे कि आपको वास्तविक मुद्दों से भटकना नहीं है।

अन्य समाचार