मुख्यपृष्ठअपराधअल्पसंख्यकों पर ‘बहुसंख्यक’ अत्याचार: ‘पापी’स्तान में गैरमुस्लिमों का रहना हुआ दुश्वार!

अल्पसंख्यकों पर ‘बहुसंख्यक’ अत्याचार: ‘पापी’स्तान में गैरमुस्लिमों का रहना हुआ दुश्वार!

  • सिख लड़की का अपहरण किया, रेप कर, इस्लाम कबुलवाया
    फिर आरोपी से ही करा दिया निकाह

एजेंसी / नई दिल्ली
पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार शुरू ही है। उनके साथ ऐसा दुव्र्यवहार किया जा रहा है कि उनका रहना दुश्वार हो गया है। पीड़ितों का कहना है कि यह अब ‘पापी’स्तान बन गया है। पाकिस्तान में खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के बुनेर जिले में सिख लड़की के जबरन धर्मांतरण का मामला सामने आया है। रिपोर्ट के मुताबिक २० अगस्त की शाम को लड़की को जबरदस्ती इस्लाम कबूल कराया गया। गुरुचरण सिंह की बेटी दिना कौर को बंदूक की नोक पर अगवा कर लिया गया और उसका रेप हुआ। इसके बाद स्थानीय प्रशासन और पुलिस की मदद से अपहरणकर्ता के साथ लड़की की शादी करा दी गई। इस भेदभाव और उत्पीड़न के खिलाफ सैकड़ों सिख और अन्य स्थानीय लोग रविवार को सड़कों पर उतर आए। उन्होंने यातायात को पूरी तरह से ठप कर दिया और न्याय की मांग की।
एक सिख प्रदर्शनकारी ने कहा कि मैं पाकिस्तान के लोगों और बाहर रहनेवालों से कहना चाहता हूं कि हमें दबाया जा रहा है और हम पर हमले हो रहे हैं। यह प्रदर्शन तब तक जारी रहेगा जब तक कि हमें हमारी बेटी मिल नहीं जाती। प्रदर्शनकारियों ने अपहरण और जबरन धर्मांतरण की इस घटना के पीछे स्थानीय प्रशासन की मिलीभगत का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि प्रशासन की मदद से जबरन उसका अपहरण किया गया। बुनेर जिले का प्रशासन इसमें शामिल है।

  • हिंदू युवक का दुकानदार से हुआ विवाद
  • दुकानदार की पत्नी ने कुरान जलाई
  • हिंदू को मॉब लिचिंग का बनाया शिकार

एजेंसी / नई दिल्ली
कट्टरपंथियों और जिहादियों के देश पाकिस्तान में किसी अल्पसंख्यक के लिए जिंदा रहना पहाड़ तोड़ने जैसा है और आए दिन पाकिस्तान के अलग-अलग हिस्सों में ईशनिंदा के आरोप में लोगों की हत्याएं कर दी जाती हैं। इसी तरह एक हिंदू युवक का दुकानदार से विवाद हो गया तो दुकानदार की पत्नी ने कुरान जला दी। फिर क्या था जैसे ही यह खबर पैâली तो उसे मारने के लिए भीड़ इकट्ठा हो गई।
स्थानीय मीडिया रिपोट्र्स के मुताबिक विवाद के बाद पाकिस्तान के हैदराबाद में हिंदू अल्पसंख्यक समुदाय के सफाई कर्मचारी के खिलाफ एक शख्स ने कुरान के कथित अपमान की शिकायत दर्ज कराई। रिपोर्ट के मुताबिक पीड़ित का नाम अशोक कुमार है, जिसे पकड़ने और मारने के लिए सैकड़ों की संख्या में लोग उसके घर के नीचे जमा हो गए। हालांकि मौके पर पहुंची पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करते हुए अशोक कुमार की जान बचा ली, लेकिन मौके से जो वीडियो सामने आ रहा है, वो काफी खतरनाक और खौफनाक है। वीडियो में दिख रहा है कि पीड़ित अशोक कुमार के घर की बालकनी में लोग खड़े नजर आ रहे हैं और नीचे भीड़ अशोक को पकड़ने के लिए शोर मचा रही है। हालांकि जिस अशोक कुमार को मारने के लिए सैकड़ों मुसलमान पहुंच गए थे, असल में उसने ऐसा किया ही नहीं था। विवाद के बाद एक मुस्लिम महिला ने ही उसे फंसाने  के लिए कुरान के कुछ पन्ने फाड़कर जला दिए और अशोक कुमार पर इल्जाम लगा दिया। जिसको लेकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान की भारी आलोचना की गई थी। जिसको लेकर तत्कालीन प्रधानमंत्री इमरान खान ने उसे ‘पाकिस्तान के लिए शर्म का दिन’ कहा था।
पहले ली नागरिकता, करने लगा जासूसी
राजस्थान सीआईडी इंटेलिजेंस एजेंसी ने पाकिस्तान के लिए जासूसी करनेवाले एक शातिर अपराधी को दिल्ली से गिरफ्तार किया है। वह पाकिस्तानी आकाओं के लिए सेना के जवानों को हनी ट्रेप करने के लिए सिम कार्ड से फर्जी सोशल मीडिया अकाउंट का खेल रचता था। दिल्ली से संदिग्ध को तलब कर पूछताछ की गई तो सामने आया कि भागचंद का जन्म पाकिस्तान में हुआ था जो २२ साल की उम्र में परिवार सहित वीजा लेकर साल १९९८ में दिल्ली में आ कर रहने लगा। साल २०१६ में भारत की नागरिकता प्राप्त कर ली और दिल्ली में ही टैक्सी चलाने व मजदूरी का कार्य करने लगा।

अन्य समाचार