मुख्यपृष्ठनए समाचारमलिक, देशमुख को हाईकोर्ट से नहीं मिली राहत! मतदान का अधिकार...

मलिक, देशमुख को हाईकोर्ट से नहीं मिली राहत! मतदान का अधिकार देने से किया इंकार

सामना संवाददाता / मुंबई
मुंबई उच्च न्यायालय ने कल राकांपा नेता नवाब मलिक और पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को राहत देने से इनकार कर दिया। दोनों ने विधान परिषद चुनाव में वोट देने के लिए हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसे अदालत ने खारिज कर दिया। मलिक और देशमुख ने २० जून को होनेवाले विधान परिषद चुनाव में मतदान के लिए एक दिन की जमानत की मांग करते हुए मुंबई उच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी। मलिक की तरफ से उनके वकील ने कोर्ट में दावा किया था कि उन्हें कुछ घंटों के लिए पुलिस की मौजूदगी में मतदान करने की अनुमति दी जाए और विधानसभा सदस्य के रूप में उन्हें वोट देने का अधिकार है, वहीं देशमुख के वकील ने कहा कि अभी तक उन्हें दोषी करार नहीं दिया गया है। ऐसे में उन्हें मतदान से वंचित रखना अनुचित होगा। दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद न्यायमूर्ति एन. जे. जमादार ने दोनों की याचिकाओं को खारिज करते हुए उन्हें राहत देने से इनकार कर दिया।

अन्य समाचार