मुख्यपृष्ठनए समाचारमणिपुर भाजपा इकाई ने लिखा पत्र : `नड्डा जी माफ करना गलती...

मणिपुर भाजपा इकाई ने लिखा पत्र : `नड्डा जी माफ करना गलती मारे से हो गई!’

जातीय संघर्ष रोकने में हैं विफल, जनता नाराज है
सामना संवाददाता / इंफाल
मणिपुर में जातीय संघर्ष की कहानी और उससे आए दिन होने वाली हिंसा से पूरा देश हिल जा रहा है। लेकिन राज्य और केंद्र की भाजपा सरकार नींद में सो रही है। जब पूरा राज्य हिंसा की आग में जलकर खाक हो गया तब भाजपा को याद आया है। अब पार्टी को एहसास हुआ है कि उससे गलती हो गई। मणिपुर भाजपा इकाई ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर कहा है, `नड्डा जी माफ करना, गलती मारे से हो गई’। पत्र में उन्होंने कहा है कि राज्य सरकार जातीय संघर्ष को रोकने में अब तक विफल रही है, जिससे लोग नाराज हैं।
पत्र में पार्टी की राज्य इकाई की प्रमुख शारदा देवी, उपाध्यक्ष चिदानंद सिंह और छह अन्य लोगों के हस्ताक्षर हैं। इसमें कहा गया है कि जनता का आक्रोश और विरोध अब धीरे-धीरे स्थिति बदल रहा है, जिससे लंबे समय से जारी इस अशांति का एकमात्र दोष स्थिति से निपटने में सरकारी विफलता को ठहराया जा रहा है।
पत्र में यह भी मांग की गई है कि आम लोगों के लिए राष्ट्रीय राजमार्गों पर यातायात के मुक्त प्रवाह को तत्काल बहाल किया जाना चाहिए। राज्य इकाई ने उन लोगों को मुआवजा देने का भी आह्वान किया, जिनके घर नष्ट हो गए। उन्होंने कहा कि जातीय संघर्ष में मारे गए लोगों के परिवारों को अनुग्रह राशि दी जानी चाहिए। पत्र में नियमों को प्रभावी ढंग से लागू करने और किसी भी नियम के उल्लंघन को आतंकवाद के कृत्य के रूप में मानने का भी आग्रह किया गया।
इसके अलवा राज्य इकाई ने नड्डा से अवैध प्रवासियों के बायोमेट्रिक डाटा को रिकॉर्ड करने के अभियान को जल्द पूरा करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय को अवगत कराने का भी आग्रह किया, ताकि एनआरसी के जल्द क्रियान्वयन की सुविधा मिल सके और सभी अफीम की खेती को पूरी तरह से नष्ट किया जा सके और निरंतर निगरानी के लिए एक संयुक्त निगरानी समिति का गठन किया जा सके।

मणिपुर में विवाद के कारण
• कुकी समुदाय को अनुसूचित जनजाति का दर्जा मिला है, लेकिन मैतेई अनूसूचित जनजाति का दर्जा मांग रहे हैं।
•  नागा और कुकी का साफ मानना है कि सारी विकास की मलाई मूल निवासी मैतेई ले लेते हैं। कुकी ज्यादातर म्यांमार से आए हैं।
•  मणिपुर के चीफ मिनिस्टर ने मौजूदा हालात के लिए म्यांमार से घुसपैठ और अवैध हथियारों को ही जिम्मेदार ठहराया है। करीब २०० सालों से कुकी को स्टेट का संरक्षण मिला। कई इतिहासकारों का मानना है कि अंग्रेज नागाओं के खिलाफ कुकी को लाए थे।

अन्य समाचार