मुख्यपृष्ठनए समाचारफूट सकते हैं कई विधायक! टेंशन में आई `ईडी' सरकार

फूट सकते हैं कई विधायक! टेंशन में आई `ईडी’ सरकार

सामना संवाददाता / मुंबई
शिवसेना से बगावत करके महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री हुए एकनाथ शिंदे के सामने नया पेंच निर्माण होने की संभावना व्यक्त की जा रही है। सरकार बनने के करीब दो महीने हो गए, फिर भी मंत्री पद को लेकर शिंदे गुट में नाराजगी बरकरार है। राज्य का दूसरा मंत्रिमंडल विस्तार लंबा खींचने की चर्चा जारी है।
बगावत करके शिंदे गुट में आए अनेक विधायक मंत्री पद के लिए इच्छुक हैं लेकिन सभी को मंत्री पद मिलना असंभव है, जिसके कारण नाराज विधायकों की संख्या दिनों बढ़ती जा रही है। कई विधायक शिंदे गुट को छोड़ सकते हैं, ऐसी राजनीति गलियारे में चर्चा है। बताया जाता है कि शिंदे गुट के चार विधायक फूट गए तो शिंदे गुट को कानूनी समस्या पैदा हो जाएगी।
शिंदे ने शिवसेना के खिलाफ बगावत की और सरकार बनाई। उस वक्त उन्हें ४० विधायकों का समर्थन मिला था। शिवसेना के पास कुल ५४ विधायक हैं। ऐसे में दलबदल विरोधी कानून से बचने के लिए शिंदे को कम से कम ३७ विधायकों का समर्थन होना जरूरी है और अगर शिंदे गुट के ४ बागी विधायक अलग हो जाएं तो यह संख्या घटकर ३६ हो जाएगी, जिसके कारण दलबदल कानून लागू होने का डर है। इसी समस्या को देखते हुए एकनाथ शिंदे फिलहाल विधायकों को मनाने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसी राजनीतिक गलियारे में जोरों से चर्चा शुरू है। इसके अलावा शिंदे के सामने दूसरी समस्या भी खड़ी हो गई है। छोटे दलों के विधायकों के अलावा निर्दलीय विधायक भी मंत्री पद के दावेदार हैं। इन सब बातों लो लेकर शिंदे गुट, भाजपा सहित `ईडी’ सरकार टेंशन में है।

अन्य समाचार