मुख्यपृष्ठनए समाचारघोड़ियां गर्भवती न हों, इसलिए लोहे के तारों से सिल दिए प्राइवेट...

घोड़ियां गर्भवती न हों, इसलिए लोहे के तारों से सिल दिए प्राइवेट पार्ट!  ….इंसान बना हैवान; जानवरों पर अमानवीय क्रूरता

सामना संवाददाता / कोल्हापुर
महाराष्ट्र के कोल्हापुर से इंसान के हैवान बनने की एक ऐसी घटना सामने आई है, जिससे किसी का भी दिल दहल जाएगा। सांगली जिले में तीन घोड़ियों के साथ भयावह तरीके से क्रूरता की गई। दरअसल घोड़ियों को गर्भवती होने से रोकने के लिए उनके प्राइवेट पार्ट को लोहे के तारों से सिल दिया गया था। घटना की सूचना इलाके में आग की तरह पैâल गई। पशु चिकित्सकों ने जब उनकी हालत देखी तो उनकी भी रूह कांप गई। अब सांगली सिटी थाना पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ पशु क्रूरता का मुकदमा दर्ज किया है। हालांकि, अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है। बता दें कि इसी तरह का एक मामला साल २०२० में भी सांगली पुलिस द्वारा दर्ज किया गया था।
दर्दनाक हालत में मिलीं तीनों घोड़ियां
पशु अधिकारों के लिए काम करने वाले गैर सरकारी संगठन के सदस्य डॉ. अजय बाबर को सांगली के भारती अस्पताल के पास लगभग दो से तीन साल की तीन घोड़ियां दर्दनाक हालत में मिलीं। जब उनकी मेडिकल जांच की गई तो पाया कि उनके प्राइवेट पार्टें को लोहे के तारों से सिला गया था। पुलिस कांस्टेबल पोपट नागरगोजे और जावेद अत्तार की मौजूदगी में डॉ. राकेश चित्तोरा, डॉ. विनायक सूर्यवंशी, डॉ. बाबर और एनजीओ के सदस्य गोरखनाथ कुराडे ने घोड़ियों को दर्द निवारक इंजेक्शन दिए गए और लोहे के तारों को काट दिया गया।
पहले भी आ चुका है ऐसा मामला
एनजीओ के सदस्य और शिकायतकर्ता कौस्तुभ पोल ने बताया कि किसी जानवर के निजी अंगों को सिलना एक घृणित काम है और कानून का उल्लंघन भी है। इन घोड़ियों के मालिक का पता लगाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि साल २०२० में भी ऐसा ही मामला सामने आया था, लेकिन उस समय कोई कार्रवाई नहीं की गई थी। अब सांगली के पुलिस अधीक्षक को इस मामले को गंभीरता से लेने और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की अपील की गई है।
रेस के बाद घोड़ियों को खुला छोड़ देते हैं लोग
पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ. नरेश उप्रेती ने बताया कि सांगली शहर में हर जगह सड़कों पर घोड़े दिख जाते हैं। इन घोड़ों का इस्तेमाल घुड़दौड़ के लिए किया जाता है, जिसके बाद इन्हें खुले में चरने के लिए छोड़ दिया जाता है। दौड़ में कई घोड़ियां भी हिस्सा लेती हैं। उन्होंने आशंका जताई है कि इन घोड़ियों को गर्भवती होने से रोकने के लिए यह काम किया गया है, इसलिए इनके मालिक अक्सर इनके प्राइवेट पार्टों को सिल देते हैं।

अन्य समाचार