मुख्यपृष्ठविश्वमारियुपोल को मिली सरेंडर न करने की सजा... रूसी बमों से मलबे...

मारियुपोल को मिली सरेंडर न करने की सजा… रूसी बमों से मलबे में शहर!

जेलेंस्की बोले- अब यहां कुछ नहीं बचा
एजेंसी / कीव । रूस ने यूक्रेन के दक्षिण तटीय शहर मारियुपोल पर हमले तेज कर दिए हैं। कल हुए दो शक्तिशाली बमों के हमले से मारियुपोल दहल उठा। ये हमले इंडस्ट्रियल एरिया पर हुए। हालांकि हमले में कितने लोग मारे गए हैं, इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है। मारियुपोल पर फाइनल कब्जे के लिए रूस ने डेडलाइन दी थी, जो खत्म हो गई। वहीं यूक्रेन ने सरेंडर से इनकार कर दिया था। इसके बाद यहां स्ट्रीट फाइटिंग भी तेज हो गई है। इटली की संसद को दिए संबोधन में जेलेंस्की ने कहा कि रूसी बमबारी के बाद इस शहर में अब कुछ भी नहीं बचा है।
राख में तब्दील करना चाहते हैं रूसी सैनिक
मारियुपोल में हर तरफ रूसी सैन्य वाहन और टैंक दिखाई दे रहे हैं। यूक्रेनी अधिकारियों ने कहा है कि रूसी सैनिक शहर को जमींदोज करना चाहते हैं। यूक्रेनी अधिकारियों ने बताया कि रूसी सेना को मारियुपोल शहर में कोई दिलचस्पी नहीं है, वे इसे जमींदोज करना चाहते हैं और राख में तब्दील करना चाहते हैं। मारियुपोल में फंसे लोग कई दिनों से बिजली और पानी के बिना जीने को मजबूर हैं। रूसी सैनिकों ने ४.५ लाख की आबादी वाले मारियुपोल की घेराबंदी की थी। हमले के बाद अब तक करीब २.५ लाख शहर छोड़ चुके हैं।
फंसे हुए हैं २ लाख लोग
हमले से बुरी तरह तबाह मारियुपोल से बाहर निकलने के लिए सड़क पर कारों की लंबी कतारें देखी जा रही हैं। खबर के मुताबिक रणनीतिक तौर पर रूस के लिए अहम इस शहर में २ लाख से भी अधिक लोग फंसे हुए हैं। यूक्रेनी अधिकारियों ने यहां से नागरिकों को बचाने के लिए रेस्क्यू के प्रयास भी किए हैं। यूरोपीयन यूनियन के फॉरेन पॉलिसी चीफ जोसेप बोरेल ने कहा कि मारियुपोल की घेराबंदी एक वॉर क्राइम है, जिसमें २,००० से अधिक लोग मारे गए हैं।

अन्य समाचार