मुख्यपृष्ठनए समाचारशादी का टेंशन! ठाणे जिले में प्रति १००० लड़कों पर ९८२ लड़कियों...

शादी का टेंशन! ठाणे जिले में प्रति १००० लड़कों पर ९८२ लड़कियों का हुआ जन्म

सामना संवाददाता / ठाणे
बुजुर्गों का कहना है कि यदि लड़कियों की जन्मदर लड़कों की जन्मदर से कम होगी तो लड़कों को शादी के लिए लड़कियां कहां से मिलेंगी।  ठाणे जिले में लड़कियों की जन्मदर इस कहावत का सीधा-सीधा उदाहरण हैं क्योंकि वर्ष २०२२-२३ में प्रति १००० हजार लड़कों के जन्म पर केवल ९८२ लड़कियों का जन्म हुआ है। पिछले वर्ष की तुलना में लड़कियों के जन्मदर में वृद्धि हुई है लेकिन लड़कों की तुलना में लड़कियों का जन्मदर अभी भी कम है। जो कि भविष्य में लड़कों की शादी को लेकर टेंशन पैदा कर सकती है।
बता दें कि पिछले वर्ष २०२२-२३ में जिले के सभी सरकारी अस्पतालों में २२ हजार १९६ महिलाओं ने बच्चों को जन्म दिया। इनमें से ३ हजार २०१ महिलाओं ने सर्जरी के जरिए सफलतापूर्वक बच्चे को जन्म दिया जब कि १८ हजार ९९५ महिलाओं ने प्राकृतिक रूप से बच्चे को जन्म दिया है। जिले में एक वर्ष के दौरान जन्म लेने वाले बच्चों में ११ हजार ६६० लड़के हैं और १० हजार ५११ लड़कियों का समावेश है। स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष लड़कियों की जन्मदर में अच्छी खासी वृद्धि हुई है। यह जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग द्वारा उठाए गए कदमों का नतीजा है।
लड़कियों की जन्मदर में बढ़ोत्तरी!
इस साल लड़कियों की जन्म दर बढ़ी है। पिछले वर्ष तक जन्म दर १००० लड़कों की तुलना में ९३९ लड़कियां थी। इस साल लड़कियों की जन्म दर में अच्छी बढ़ोतरी हुई है।
गांवों में शादी को लेकर चिंता!
ग्रामीण और दूरदराज के इलाकों के वरिष्ठ नागरिकों के बीच यह चर्चा आजकल जोर पकड़ने लगी है कि लड़कों को शादी के लिए लड़कियां नहीं मिल रही हैं। ठाणे जिले में पिछले एक वर्ष में १० हजार ५११ बेटियों ने जन्म लिया है। इसकी तुलना में १ हजार १४९ अधिक लड़कों का जन्म हुआ है। इसके मुताबिक, भविष्य में लड़कों की शादी को लेकर चिंता हो सकती है।

अन्य समाचार