मुख्यपृष्ठसमाचार१३ की उम्र में विवाह... १५ में प्रसव के दौरान तोड़ा दम!

१३ की उम्र में विवाह… १५ में प्रसव के दौरान तोड़ा दम!

इमरान खान / छिंदवाड़ा

मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा के जिला अस्पताल के गायनिक वॉर्ड में शुक्रवार को एक १५ वर्षीया गर्भवती की प्रसव के दौरान मौत हो गई। नाबालिग की मौत ने जिले में बाल विवाह रोकने के लिए चलाए जानेवाले अभियानों की पोल खोल दी है।
मिली जानकारी के अनुसार मामला छिंदवाड़ा के उमरेठ क्षेत्र का है। बताया जा रहा है कि जब लड़की १३ वर्ष की थी उस समय उसका विवाह किया गया था। १५ वर्ष की गर्भवती बच्ची की हालत गंभीर होने पर जिला अस्पताल लाया गया जहां उसकी मौत हो गई। नाबालिग की हालत गंभीर थी,चिकित्सकों के तमाम प्रयासों के बावजूद नाबालिग की जान नहीं बचाई जा सकी। बता दें कि जागरूकता की कमी और कम उम्र में शादी और मां बनने के चलते जच्चा-बच्चा दोनों की जान चली गई। डॉक्टरों ने बताया कि बच्ची के गर्भ में ही नवजात की मौत हो चुकी थी। उसके गर्भ में इंफेक्शन फैल गया था, जिसकी वजह से नाबालिग की भी मौत हो गई।
१५ वर्षीय नाबालिग मृतका और मृत नवजात का शनिवार को दो डॉक्टरों की टीम ने पोस्टमार्टम किया जिसके बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया। इस मामले में उमरेठ पुलिस जांच करेगी। वहीं इस मामले के बाद प्रशासन हरकत में आया है। महिला एवं बाल विकास अधिकारी ने जांच के आदेश दिए हैं।
गौरतलब है कि नाबालिग का १३ साल की उम्र में विवाह हो गया था। १५ साल की उम्र में वह गर्भवती हो गई। ऐसे में यह सवाल उठ खड़ा होता है कि बाल विवाह रोकने की मुहिम इतनी सख्ती से चलाए जाने के बाद भी ऐसे मामले बेहद शर्मनाक हैं।

अन्य समाचार