मुख्यपृष्ठराजनीति११ लड़कियों की सामूहिक खुदकुशी के प्रयास का मामला, शिव"राज" में प्रेशर...

११ लड़कियों की सामूहिक खुदकुशी के प्रयास का मामला, शिव”राज” में प्रेशर में पुलिस! अस्पताल प्रशासन ने भी साध रखी है चुप्पी

 बच्चियों को प्रताड़ित किए जाने का लग रहा है आरोप
 एक की हालत अति गंभीर, आईसीयू में की गई शिफ्ट

सामना संवाददाता / भोपाल
भाजपा सरकार ‘बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाव’ का नारा तो देती है मगर बेटियों की सुरक्षा का इंतजाम नहीं करती। यहां एक साथ ११ बेटियों के खुदकुशी करने का मामला सामने आया है। हैरानी की बात है कि इस मामले पर पुलिस कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है और अपना मुंह छिपा रही है। अस्पताल प्रशासन ने भी मामले पर चुप्पी साध रखी है। माना जा रहा है कि शिव‘राज’ सरकार के दबाव में पुलिस व अस्पताल ने अपने होंठ सिल रखे हैं। ऐसे में राज्य में अफवाहों का बाजार गर्म हो उठा है।
बता दें कि नेहरू नगर स्थित बालिकागृह की ११ लड़कियां अचानक बेहोश हो गईं। उन्हें गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया। चर्चा है कि खुदकुशी करने के इरादे से लड़कियों ने जहरीला पदार्थ खाया है। सूचना मिलते ही कमला नगर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई थी। जेपी अस्पताल के चिकित्सकों का कहना है कि सभी बालिकाओं का इलाज किया जा रहा है। फिलहाल इससे ज्यादा अस्पताल कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। बताया जा रहा है कि बालिकागृह में होने वाली प्रताड़ना से तंग आकर लड़कियों ने जहर खाकर आत्महत्या करने का प्रयास किया है।
नाबालिग लड़कियां भी शामिल
इन ११ लड़कियों में से कुछ बालिकाएं नाबालिग हैं। कुछ बालिकाओं की हालत गंभीर बताई जा रही है। डॉक्टरों द्वारा बच्चियों का इलाज जारी है। एक बच्ची की हालत अति गंभीर होने पर उसे आईसीयू में शिफ्ट किया गया है। इलाज कर रहे डॉक्टरों का कहना है कि, अगर पता चल जाता कि बालिकाओं ने कौन-सा जहरीला पदार्थ खाया है या पीया है तो इलाज करने में थोड़ी आसानी हो जाती। इस पूरी घटना से बालिकागृह का प्रबंधन भी सवालों के घेरे में है।
रविवार देर रात यह हादसा हुआ। बताया जाता है कि बालिकागृह के वॉटर कूलर का पानी पीने की वजह से उनकी तबीयत खराब हुई और वे बेहोश हो गईं। तबीयत खराब होने के बाद उन्हें जेपी अस्पताल में भर्ती कराया गया। टीटी नगर एसीपी सीएस पांडेय ने बताया कि कई लड़कियां बेहोश हुईं, जबकि कई लड़कियों को पेटदर्द और उल्टी की शिकायत हुई। इसके बाद सबको जेपी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

लोगों को सता रहा डर
लड़कियों की तबीयत खराब होने का मामला सामने आने के बाद लोगों को कई तरह के डर सता रहे हैं। कई रिपोर्ट्स के मुताबिक बालिकाओं ने आत्महत्या करने की कोशिश की थी। माना जा रहा है कि बच्चियों ने रात में खाना खाने के बाद जहर खाया है। बता दें कि बालिकागृह में कुल ३५ बच्चियां हैं। अचानक बालिकागृह की ११ बच्चियों की तबीयत बिगड़ने से कई तरह के सवाल उठने लगे हैं। लोगों के मन में सवाल आ रहे हैं कि क्या बालिकागृह में बच्चियों को प्रताड़ित किया जाता था, जिससे तंग आकर उन्होंने आत्महत्या की कोशिश की, या फिर बालिकागृह प्रशासन की लापरवाही की वजह से खराब पानी पीने से उनकी तबीयत बिगड़ी?

अन्य समाचार