मुख्यपृष्ठअपराधअफ्रीकी देश में जनसंहार ... कब्रों से भर गया ओरोमिया!

अफ्रीकी देश में जनसंहार … कब्रों से भर गया ओरोमिया!

-इथोेपिया में अमहारा जनजाति के २५० से ज्यादा लोगों का कत्लेआम

एजेंसी / इथोपिया
अफ्रीकी देश इथोपिया में कत्लेआम की दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई है। यहां के ओरोमिया इलाके में कल रात अमहारा जनजाति के करीब २५० लोगों का कत्ल कर दिया गया। यह हमला देश के ओरोमिया गांव में हुआ है। आशंका है कि विद्रोही गुट ओरोमो लिबरेशन आर्मी (ओएलए) ने इस नृशंस वारदात को अंजाम दिया है। इथोपिया में पिछले कुछ सालों में जनजातीय तनाव की यह सबसे बड़ा खूनी वारदात है। हमले में बचे कुछ प्रत्यक्षदर्शियों ने इन हमलों के लिए ओरोमो लिबरेशन आर्मी (ओएलए) को जिम्मेदार ठहराया है। एक बयान में ओरोमिया क्षेत्रीय सरकार ने भी ओएलए को दोषी ठहराया और कहा कि ओएलए ने (संघीय) सुरक्षाबलों द्वारा शुरू किए गए अभियानों का विरोध करने के चलते यह हमला किया। हालांकि ओएलए के प्रवक्ता ओदा तरीबी ने इन आरोपों से इनकार किया है। उन्होंने इस घटना के लिए सेना और स्थानीय मिलिशिया को जिम्मेदार बताया है। उन्होंने कहा कि हमारे लड़ाके उस इलाके में कभी नहीं गए, जहां हमला हुआ है।
कब्र में गिने गए २५० शव
स्थानीय निवासी और प्रत्यक्षदर्शी अब्दुल सईद ताहिर ने बताया कि मैंने करीब २५० बॉडी को खुद गिना है। यह हमारे जीवन की सबसे दर्दनाक घटना है, जहां सैकड़ों लोगों को निर्ममता से कत्ल कर दिया गया। फिलहाल हम इनकी लाशों को सामूहिक कब्रगाह में दफन कर रहे हैं और इसी से मरनेवालों की संख्या का पता चला। हो सकता है कि संख्या और भी ज्यादा हो।
३० साल पहले बसा था अमहारा समुदाय
एक अन्य प्रत्यक्षदर्शी शामबेल का कहना है कि सामूहिक कत्लेआम की और घटनाओं के डर के चलते अमहारा समुदाय के लोग अब अपना दूसरा ठिकाना खोज रहे हैं। उन्होंने कहा कि दरअसल आदिम जनजाति अमहारा समुदाय के लोगों को पुनर्वास कार्यक्रमों के तहत लगभग ३० साल पहले यहां बसाया गया था लेकिन अब इन्हें मुर्गे-मुर्गियों की तरह काटा जा रहा है। बता दें कि इथोपिया कई क्षेत्रों में व्यापक जातीय तनाव का सामना कर रहा है। जनजातियों के बीच तनाव के कारण ऐतिहासिक और राजनीतिक हैं। इथोपिया की करीब ११ करोड़ की आबादी के बीच दूसरा सबसे बड़ा जातीय समूह अमहारा समुदाय का है, जिसे अब टार्गेट किया जा रहा है।

अन्य समाचार