मुख्यपृष्ठअपराधमौलाना ने बर्बाद कर दी बेटी की जिंदगी, पढ़ने गई थी कुरान,...

मौलाना ने बर्बाद कर दी बेटी की जिंदगी, पढ़ने गई थी कुरान, हो गई कुकर्म की शिकार!

मनोज श्रीवास्तव / लखनऊ
पश्चिमी उत्तर प्रदेश के शामली जिले में गढ़ीपुख्ता क्षेत्र के एक मदरसे में किशोरी के साथ दुष्कर्म के मामले में नए-नए खुलासे हो रहे हैं। पुलिस जांच में पता चला कि दुराचार आरोपी मौलाना ने किशोरी के साथ तो दुष्कर्म किया ही, साथ ही उसकी दो चचेरी बहनों को जहां एक घंटे तक सजा के तौर पर बाथरूम में बंद रखा। उसने अपने करतूत की जानकारी किसी को भी देने पर पीड़िता व उसके परिवारवालों को जान से मारने की धमकी दी थी। यही नहीं मदरसे में ही पढ़ाने वाली एक महिला और युवती पर भी मौलाना का सहयोग करने का आरोप लगाया गया है। मौलाना, महिला और युवती समेत तीन के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है।
पीड़िता के पिता ने बताया कि शामली के मदरसे में उसकी बेटी के अलावा दो भतीजी भी पढ़ रही थीं। 28 जुलाई को परिवार के सदस्य तीनों बेटियों से मिलने के लिए मदरसे पहुंचे। जहां पर बेटियों ने इशारे में बताया कि मदरसे में उनके साथ गलत काम हो रहा है, जिसके बाद मदरसा संचालक और अन्य ने उन्हें बेटियों से नहीं मिलने दिया। जब परिजनों ने उन्हें अपने साथ ले जाने को कहा तो मदरसा संचालक व अन्य ने साफ मना कर दिया। जिस पर परिजनों ने करनाल जाकर अन्य परिवार के सदस्यों को पूरे मामले की जानकारी दी। उसके बाद किशोरी के पिता और छह अन्य लोग मदरसा पहुंचे व बेटियों को ले जाने की मांग मदरसा संचालक से की। परिजनों ने काफी देर तक हंगामा किया और परिवार में शादी होने की बात कहते हुए तीनों बेटियों को करनाल ले गए। घर पहुंच कर किशोरियों ने मदरसा संचालक की करतूतों के बारे में जानकारी दी। पीड़िता ने बताया कि मदरसे में रहने वाली एक महिला और युवती मौलाना की मदद करती थीं। बहनों को भी मामले के बारे में पता लग गया था, जिस पर मौलाना ने उन्हें भी धमकी दी कि किसी को बताया तो उन्हें व उसके परिवार को मार दिया जाएगा। यही नहीं उसकी चचेरी बहनों को एक घंटे तक बाथरूम में बंद रखा गया।

कई दिन बीतने के बाद भी पीड़िता सदमे से नहीं उबर पाई है। कहा कि उसके साथ जो हरकत की गई है अन्य के साथ नहीं होनी चाहिए। अपनों के बीच पहुंचने के बाद भी कई बार पीड़िता दहाड़े मार-मार कर रोने लगती है। वह बार-बार मदरसे में न जाने की बात करती है। परिवार के सदस्यों ने बताया कि घटना के बाद से सही से खाना भी नहीं खा पा रही है। पीड़िता के पिता रोते रोते कहते हैं कि चाहे जान चली जाए मगर सजा दिलाकर ही रहूंगा। उसे नहीं पता था कि जिस मदरसे में वह बेटी को तालीम देने के लिए भेज रहा है, उसमें ही उसे हवस का शिकार बना दिया जाएगा। चाहता था कि बेटी की शादी हो तो ये कहा जा सके कि बेटी हिंदी के साथ साथ कुरान भी पढ़ी हुई है। मौलाना ने हमारी जिंदगी ही बर्बाद कर दी है। मौलाना की संपत्ति जांच और मदरसे पर तत्काल सील लगाने की गुहार लगाई है।

अन्य समाचार

लालमलाल!