मुख्यपृष्ठनए समाचारकिसी भी पद पर भर्ती के लिए महिलाओं का सीना मापना अपमानजनक...

किसी भी पद पर भर्ती के लिए महिलाओं का सीना मापना अपमानजनक … हाईकोर्ट ने बताया महिला गरिमा के खिलाफ

सामना संवाददाता / जयपुर
राजस्थान हाईकोर्ट ने उस भर्ती प्रक्रिया की निंदा की है जिसमें किसी भी भर्ती प्रक्रिया के दौरान महिलाओं का सीना मापा जाता है। कोर्ट ने महिलाओं के सीने को मापने की प्रक्रिया की न सिर्फ निंदा की बल्कि इसे मनमाना और अपमानजनक भी बताया है। कोर्ट ने कहा कि इससे महिला की गरिमा को ठेस पहुंचती है। कोर्ट ने प्रदेश के प्रशासन को निर्देश दिया है कि वह इस बाबत एक्सपर्ट्स की राय ले कि क्या इसका कोई दूसरा विकल्प हो सकता है, जिससे महिलाओं की क्षमता का आंकलन हो सके। जस्टिस दिनेश मेहता ने तीन महिलाओं की ओर से दायर की गई याचिका पर सुनवाई के दौरान यह टिप्पणी की है। दरअसल फॉरेस्ट गार्ड की भर्ती के दौरान तीन महिलाओं की सभी शारीरिक क्षमताएं नियम के अनुसार थीं, लेकिन छाती की माप की वजह से उन्हें इससे बाहर कर दिया गया था। इस फैसले को चुनौती देते हुए तीनों महिलाओं ने कोर्ट में याचिका दायर की थी। हालांकि इस याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने भर्ती प्रक्रिया में दखल देने से इनकार कर दिया है, जोकि पहले ही हो चुकी है।

अन्य समाचार