मुख्यपृष्ठनए समाचारहिंदूहृदयसम्राट शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे का स्मृति दिवस...आज शिवतीर्थ पर उमड़ेगा निष्ठावानों का जनसैलाब

हिंदूहृदयसम्राट शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे का स्मृति दिवस…आज शिवतीर्थ पर उमड़ेगा निष्ठावानों का जनसैलाब

सामना संवाददाता / मुंबई
महाराष्ट्र के लोगों के मन में हिंदुत्व का स्वाभिमान जगाने वाले  हिंदूहृदयसम्राट शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे का १७ नवंबर को स्मृति दिवस है। इस अवसर पर मुंबई, महाराष्ट्र समेत देशभर से श्रद्धालुओं का जनसैलाब आज शिवतीर्थ स्थित उनके स्मृति स्थल पर पहुंचेगा। लाखों हिंदू, अनगिनत शिवसैनिक और युवा-वृद्ध शिवसेना प्रेमी स्मारक स्थल पर नतमस्तक होकर अपने प्रिय साहेब को श्रद्धासुमन अर्पित करेंगे।

शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे तमाम शिवसैनिकों के देवता हैं और उनका स्मारक उनके लिए शक्ति का स्थान है। इस शक्तिस्थल पर माथा टेकने के बाद शिवसैनिकों, हिंदुओं और भूमिपुत्रों को एक अलग ही चेतना प्राप्त होती है। यह अन्याय, अत्याचार और बुरी ताकतों से लड़ने की प्रेरणा मिलती है। बालासाहेब को श्रद्धांजलि देने के लिए सुबह से ही शिवतीर्थ पर जनसैलाब उमड़ना शुरू हो जाता है। उसी के अनुरूप पुलिस ने भी अच्छी सुरक्षा व्यवस्था कर रखी है। शिवसैनिक भी पूरी व्यवस्था पर नजर रखे हुए हैं।
चाफे के फूल से सजाया स्मारक स्थल  
शिवसेनाप्रमुख को चाफा के फूल बहुत पसंद हैं इसलिए स्मारक स्थल को फूलों से आकर्षक ढंग से सजाया गया है और शिवतीर्थ भगवामय हो गया है। स्मृति स्थल के पास जहां बालासाहेब अनंत में विलीन हुए, वहां भी रंगोली निकालकर बालासाहेब की स्मृतियों को याद किया जा रहा है।

स्मृति स्थल पर विघ्न डालने की कोशिश
घाती गुट की साजिश को शिवसैनिकों ने किया नाकाम
सामना संवाददाता / मुंबई
शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे का ११वां स्मृति दिवस शुक्रवार को है। राज्य भर से शिवसैनिक बालासाहेब के शिवतीर्थ पर उनका वंदन करने के लिए आते हैं, लेकिन ‘घाती’ गुट के कार्यकर्ता इससे पहले ही स्मृति स्थल पर पहुंचकर हंगामा करने लगे। शिवसैनिकों ने समय रहते उन्हें खदेड़कर घाती गुट की योजना को असफल कर दिया। इस दौरान शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) पक्ष के नेता अनिल परब, सांसद अनिल देसाई ने मौके पर पहुंच कर आक्रोशित शिवसैनिकों को शांत कराया। इस बीच शिवसैनिक ने ‘गद्दारों को बाहर निकालो’ का नारा दिया। सांसद अनिल देसाई ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि सच्चे शिवसैनिक, बालासाहेब के स्मृति स्थल पर कभी विघ्न नहीं डालेंगे। बालासाहेब का स्मृति दिवस हमारे लिए बहुत बड़ा दिन है। कोई कितनी भी कोशिश कर ले, हम किसी भी तरह का अनुचित वाकया नहीं होने देंगे। जिन लोगों में शिवसेनाप्रमुख के संस्कार नहीं हैं, उन्होंने यहां आकर अराजकता पैदा की है।

अन्य समाचार

कुदरत

घरौंदा