मुख्यपृष्ठनए समाचार`मेनू' तूफान का कहर! ... मुंबई, ठाणे और पालघर में मूसलाधार बारिश

`मेनू’ तूफान का कहर! … मुंबई, ठाणे और पालघर में मूसलाधार बारिश

• अगले तीन दिनों तक रहेगा असर
सामना संवाददाता / मुंबई
मानसून की विदाई का दौर चल रहा था लेकिन इसी बीच म्यांमार से `मेनू’ नामक तूफान के बंगाल की खाड़ी में सक्रिय होने से मौसम का मिजाज बदल गया है। इसका असर महाराष्ट्र सहित देश के कई राज्यों में पड़ा है। कल मुंबई, ठाणे और पालघर में मूसलाधार बारिश हुई, जिससे जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। मौसम विभाग ने अगले तीन-चार दिनों तक मानसून के सक्रिय रहने की संभावना व्यक्त की है।
कल हुई भारी बारिश से मुंबई, ठाणे और पालघर के कई निचले इलाकों में जलभराव हो गया, जिससे ट्रैफिक जाम की समस्या निर्माण हो गई। बारिश के कारण मध्य और हार्बर रेलवे की रफ्तार धीमी पड़ गई। मुंबई में ३७.५ मिलीमीटर, पूर्वी उपनगर में ३६.३८ मिलीमीटर और पश्चिम उपनगर में २५.२६ मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। ‌मुंबई मनपा से मिली जानकारी के अनुसार महानगर में चार जगह शार्ट सर्किट, एक घर का कुछ हिस्सा गिरने और एक वृक्ष के गिरने की खबर है। हालांकि अक्टूबर हीट से लोगों को राहत मिली है। मुंबई के लिए आज भी बारिश का येलो अलर्ट जारी किया गया है। ठाणे और पालघर में सोमवार तक के लिए बारिश का येलो अलर्ट जारी किया गया है। आंध्र प्रदेश और गुजरात में कम दबाव का क्षेत्र बनने का असर महाराष्ट्र में दिखा है। भारतीय मौसम विभाग के वरिष्ठ वैज्ञानिक होसलीकर ने आगामी तीन-चार दिनों तक मुंबई, ठाणे, पालघर और कोकण के जिलों में मानसून के सक्रिय रहने की संभावना व्यक्त की है। अगले दो दिनों तक ठाणे, पालघर, रायगढ़, पुणे, रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग, सातारा, धुले, नंदुरबार, जलगांव, नासिक, नगर, सांगली, सोलापुर सहित राज्य के अधिकांश जिलों में अच्छी बारिश होने का अनुमान है। इस बीच मेघ गर्जना के साथ ३० से ४० किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने की भी संभावना है। मछुआरों को समुद्र में न जाने की चेतावनी जारी की गई है।
मौसम विभाग के अनुसार इन दिनों उत्तर-पश्चिम मानसून सक्रिय होता है, जिसे आम भाषा में लौटता हुआ मानसून कहा जाता है। इससे बहुत अच्छी बारिश की उम्मीद नहीं की जाती है लेकिन तीन दिन पहले म्यांमार में `मेनू’ तूफान सक्रिय हो गया। यह तूफान बंगाल की खाड़ी और ओडिशा होते हुए उत्तर प्रदेश तक पहुंचा। इससे मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल और उत्तर प्रदेश में भी अधिक निम्न दबाव का क्षेत्र बन गया। देश के ज्यादातर राज्यों में इस तूफान के चलते निम्न दबाव का क्षेत्र बना हुआ है, जिससे कई राज्यों में बारिश हो रही है। ‌

अन्य समाचार