मुख्यपृष्ठसमाचारएक-दूसरे को पछाड़ने के लिए लगा रहे रेस... `पारा' और पेट्रोल का...

एक-दूसरे को पछाड़ने के लिए लगा रहे रेस… `पारा’ और पेट्रोल का मीटर हाई!

• तापमान ४० डिग्री तक पहुंचने की संभावना •  पेट्रोल का रेट १०३.१२ रुपए पर पहुंचा
सामना संवाददाता / नई दिल्ली । सिर्फ गर्मी का तापमान ही आमजन को नहीं तपा रहा है, बल्कि तेजी से बढ़ रहे पेट्रोल-डीजल के दाम भी धड़कनें बढ़ा रहे हैं। मात्र १० दिन में ही ७ रुपए १६ पैसे का पेट्रोल के दामों में इजाफा हो चुका है। इसके चलते कल पेट्रोल के दाम १०३.१२ रुपए पहुंच गए। जबकि २१ मार्च को ही पेट्रोल का रेट ९५.९६ रुपए दर्ज किया गया था। वहीं डीजल के दाम भी बढ़ रहे हैं। डीजल के दाम अब ९४.३३ रुपए तक पहुंच गए हैं। १२ अक्टूबर २०२१ में ही डीजल के दाम ९३.९३ रुपए तक पहुंचे थे। अब इनमें भी तेजी से बढ़ोतरी हुई है और पिछले आंकड़े को भी पछाड़ दिया है। देश में चल रही लू और धूप के चलते गर्मी ही सिर्फ आम आदमी का पसीना नहीं निकाल रही है, बल्कि गर्मियों का असर जेब पर भी तेजी से प़ड़ रहा है। गर्मी के तापमान के साथ-साथ इस बार तेल के दाम भी तेजी से बढ़ रहे हैं। इससे आमजन के लिए वाहन चलाना भी मुश्किल हो गया है। या यूं कहे कि तेल के दाम और गर्मी का पारा एक-दूसरे को पछाड़ने के लिए रेस लगा रहे हैं।
९ राज्यों में चल रही है लू
मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए कहा है कि कुछ दिनों से मध्य प्रदेश, राजस्थान, पूर्वी यूपी, छत्तीसगढ़, हरियाणा, दिल्ली, गुजरात, झारखंड में लू की लहर चल रही है। विभाग ने इस दौरान लोगों से सतर्कता बरतने की अपील की है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में ४ से ८ अप्रैल के बीच तापमान ४० से ४१ डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने की संभावना है।
समय से पहले सताने लगी गर्मी?
स्काईमेट के अनुसार उत्तर भारत में वेस्टर्न डिस्टर्बेंस का असर कम होने की वजह से हवा की रफ्तार में कमी आ जाती है इसलिए तापमान में बढ़ोतरी होती है। इस साल वेस्टर्न डिस्टर्बेंस का असर मर्च के तीसरे हफ्ते में ही समाप्त हो चुका है। इसी वजह से समय से पूर्व उत्तर और मध्य भारत में प्रचंड गर्मी का असर देखने को मिला। इसी वजह से इस साल मार्च में लगातार शुष्क और गर्म, पश्चिमी हवाएं चलीं।
केदारनाथ धाम से बर्फ गायब
तापमान में बढ़ोतरी की वजह से बदरीनाथ और केदारनाथ बर्फ विहीन हो चुका है। पिछले वर्ष तक यहां इस समय तक ४ फीट बर्फ रहती थी। चारों धाम में यह हाल तब है जब गंगोत्री व यमुनोत्री धाम में पिछले वर्ष की अपेक्षा अधिक बर्फबारी हुई है।

अन्य समाचार