मुख्यपृष्ठनए समाचारमौसम वैज्ञानिकों का अनुमान, फिर लौटेगी शीतलहर! ... उत्तर भारत में ठंड...

मौसम वैज्ञानिकों का अनुमान, फिर लौटेगी शीतलहर! … उत्तर भारत में ठंड कायम

सामना संवाददाता / मुंबई
अरब सागर में बने चक्रवात के कारण महाराष्ट्र में बेमौसम बारिश हुई, जो किसानों के लिए नुकसानदेह साबित हुई। हालांकि, अब बेमौसम बारिश के थमते ही भारतीय मौसम विभाग ने एक बार फिर शीतलहर के लौटने का अनुमान लगाया है। उत्तर भारत में अभी भी शीतलहर का प्रकोप जारी है। उत्तर से आनेवाली ठंडी हवाएं प्रदेश में ठंड बढ़ाएंगी। अगले ४८ घंटों में मध्य और पूर्वी हिंदुस्थान में दो से तीन डिग्री तक पारा गिरेगा।
महाराष्ट्र के विभिन्न हिस्सों में न्यूनतम तापमान में गिरावट होने की संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक, १९ जनवरी के बाद से प्रदेश में अधिकतम तापमान में कमी आने के साथ ही शीतलहर शुरू हो सकती है, जो २५ जनवरी तक ठंड बरकरार रहेगी। प्रदेश में ठंडी देरी से शुरू हुई। हालांकि, गुलाबी ठंडी का आनंद अधिक समय तक नहीं रहा और बेमौसम बारिश शुरू हो गई। इस बारिश से किसान को भी भारी नुकसान हुआ। बेमौसम बारिश का दौर अब छंट गया है और ठंडी की अच्छी खबर एक बार फिर आ गई है।
राज्य में शुष्क रहेगा मौसम
फिलहाल, राज्य में मौसम में कोई बदलाव नहीं है और मौसम शुष्क रहेगा। ठंड का असर विदर्भ में भी महसूस किया जाएगा। इसके साथ ही विदर्भ में ठंड के लिए मध्य प्रदेश से आनेवाली ठंडी हवाएं जिम्मेदार होंगी। इसलिए संभावना है कि अगले दो से तीन दिनों में यहां न्यूनतम तापमान में गिरावट आएगी। नतीजतन, यहां भी ठंड महसूस होगी।

महाराष्ट्र ही नहीं, पूरे देश में पड़ेगी कड़ाके की ठंड
मौसम विभाग के मुताबिक, सिर्फ महाराष्ट्र ही नहीं, बल्कि पूरे देश में कड़ाके की ठंड पड़नेवाली है। अगले तीन दिनों तक उत्तर में शीतलहर देखने को मिलेगी। मध्य और पूर्वी हिंदुस्थान में अगले ४८ घंटों में तापमान में दो से तीन डिग्री सेल्सियस की गिरावट देखने को मिलेगी। इस बीच भारतीय मौसम विभाग ने भी अनुमान जताया है कि मंगलवार तक एक बार फिर नया पश्चिमी विक्षोभ बन सकता है और उसके बाद देश के मौसम में बदलाव हो सकता है।

अन्य समाचार