मुख्यपृष्ठनए समाचारमेट्रो प्रशासन को नहीं रहा स्वतंत्रता दिवस का खयाल, स्टेशनों पर नहीं...

मेट्रो प्रशासन को नहीं रहा स्वतंत्रता दिवस का खयाल, स्टेशनों पर नहीं बजे देशभक्ति गाने नहीं दिखे तिरंगे! यात्रियों ने प्रशासन के प्रति जताई नाराजगी

अभिषेक कुमार पाठक / मुंबई
स्वतंत्रता दिवस की ७६वीं वर्षगांठ मुंबई सहित पूरे देश में मनाई गई, विभिन्न गतिविधियों ने लोगों का उत्साह बढ़ा दिया। हालांकि, स्थानीय समेत तमाम जगहों और कार्यालयों और यात्रियों को अनोखे अंदाज में स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं देने की कोशिश की है, लेकिन मेट्रो प्रशासन ने इसके मुकाबले उदासीनता दिखाई है। मेट्रो स्टेशनों पर न तिरंगे दिखाई दिए और न ही देशभक्ति के गाने बजे। प्रशासन की इस लापरवाही पर यात्रियों ने नाराजगी जाहिर की है।
मुंबई की लाइफलाइन कही जाने वाली लोकल रेलवे के सभी स्टेशनों पर यात्रियों को अनोखे अंदाज में स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं दी गईं और देशभक्ति गाने बजे। हर स्टेशन पर देशभक्ति के गाने बजाए गए। मुंबई मेट्रो मुंबईवासियों और स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर मुंबई आने वाले नागरिकों को उनकी दैनिक दिनचर्या में एक मुंबई का शानदार अहसास दिलाने के प्रयास में लागू की गई हैं। हालांकि, मेट्रो २ए और ७ पर यात्रा करने वाले मुंबईकरों ने एमएमआरडीए और मुंबई मेट्रो रेल प्रशासन के प्रति नाराजगी व्यक्त की है। जहां हर तरफ जश्न का माहौल था, वहीं किसी भी मेट्रो स्टेशन पर स्वतंत्रता दिवस का माहौल नहीं था और न ही मेट्रो में कोई देशभक्ति के गाने बजाए गए। आखिर मेट्रो प्रशासन स्वतंत्रता दिवस को लेकर इतना उदासीन क्यों है? यह सवाल नागरिकों ने प्रशासन से पूछा है। संपर्क करने पर मेट्रो रेलवे प्रशासन की ओर से बताया गया कि बीकेसी स्थित मुख्यालय और मेट्रो डिपो में स्वतंत्रता दिवस मनाया गया। साथ ही कुरार मेट्रो स्टेशन पर यात्रियों को राष्ट्रीय ध्वज दिए जाने के बारे में भी जानकारी दी गई। गोरेगांव वेस्ट स्टेशन में कार्यरत एक अधिकारी ने नाम न छापने के शर्त पर जानकारी देते हुए बताया कि स्टेशन पर किसी भी प्रकार का १५ अगस्त का समारोह नहींr मनाया गया है। सिर्फ बीकेसी और डिपो में ही कुछ कार्यक्रम हुए।
१५ अगस्त के दिन भी नहीं दौड़ी नई मुंबई की मेट्रो
कल १५ अगस्त के दिन नई मुंबई में पहले मेट्रो रेल की शुरुआत का सपना देख रहे नई मुंबईकरों के पल्ले एक बार फिर निराशा ही हाथ लगी। दरअसल, सोशल मीडिया के जरिए इस तरह का माहौल तैयार किया जा रहा था कि इस १५ अगस्त को नई मुंबई में मेट्रो रेल का उद्घाटन राज्य के मुख्यमंत्री और देश के प्रधानमंत्री के हाथों हो जाएगा। बता दें कि नई मुंबईकरों को भी बेसब्री से मेट्रो के प्रथम फेज (बेलापुर से पेंधर, ११ किलोमीटर) के उद्घाटन का इंतजार है, लेकिन राजनीति और राजनीतिक इच्छाशक्ति के सामने आम जनता बेबस है क्योंकि राज्य के सत्ताधारियों की इच्छा है कि मेट्रो का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के `करकमलों’ से हो लेकिन उनके पास वक्त नहीं है। गौरतलब है कि हाल ही में सिडको के नवनियुक्त प्रबंध निदेशक अनिल डिग्गिकर ने कहा था कि मेट्रो रेल को सुरक्षा आयुक्त से सीएमएमआरएस प्रमाणपत्र मिल गया है और जल्दी ही बेलापुर से पेंधर के बीच मेट्रो दौड़ने लगेगी।

अन्य समाचार