मुख्यपृष्ठअपराधकचरे मिली कन्या की पुलिस बनी 'पालक'! उठाएगी लालन-पालन, शिक्षा का...

कचरे मिली कन्या की पुलिस बनी ‘पालक’! उठाएगी लालन-पालन, शिक्षा का खर्च

जितेंद्र मल्लाह / मुंबई

संतानहीन दंपतियों की हमारे समाज में बांझ कहकर उपेक्षा की जाती है, बार-बार उन्हें अपमानित किया जाता। इस वजह से कई लोग बच्चे की चोरी या खरीद – विक्री करने जैसा गैरकानूनी काम भी करने को मजबूर हो जाते हैं। वहीं दूसरी तरफ चिराग की चाहत या फिर नाजायज संबंधों से जन्मे बच्चों को बदनामी के डर से कुछ लोग मार देते हैं अथवा लावारिश अवस्था में फेंक देते हैं। बोरीवली-पश्चिम स्थित एमएचबी पुलिस की हद में कचरे में मिली ऐसी ही एक लावारिश बच्ची के लिए पुलिस पालक बन गई है। एम एच बी पुलिस ने उक्त नवजात बच्ची के लालन-पालन एवं शिक्षा आदि का खर्च खुद उठाने का एलान किया है।

बता दें कि एमएचबी पुलिस थाने की हद में शिवाजी नगर, साईबाबा मंदिर के पास स्थित कूड़े दान में कोई दो दिन पहले एक नवजात बच्ची को उसके जन्म के कुछ ही देर बाद फेंक गया था। एक बेकरी संचालक की पहले कचरे में पड़ी बच्ची पर नजर पड़ी और उन्होंने पुलिस को इसकी सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने बच्ची को तुरंत कांदिवली पश्चिम स्थित शताब्दी अस्पताल पहुंचाया। बताया जा रहा है कि बच्ची की नाल भी नहीं काटी गई थी, इसलिए अनुमान लगाया जा रहा है कि किसी अविवाहित मां ने बदनामी के डर से फेंका होगा। आवारा पशुओं की देखभाल के लिए संस्था चलाने वाले एमएचबी पुलिस थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक सुधीर कुडालकर के नेतृत्व में एमएचबी ने उक्त बच्ची की देख-भाल, लालन-पालन और शिक्षा आदि की जिम्मेदारी खुद वहन करने का निर्णय लिया है। बच्ची के सुरक्षित भविष्य के लिए पुलिस बैंक में कुछ रकम फिक्स डिपॉजिट में जमा करेगी। बालकल्याण समिती के साथ पत्र-व्यवहार करके पुलिस बच्ची के स्वस्थ होने का इंतजार कर रही है। फिलहाल पुलिस ने बच्ची को मरने के लिए कचरे में फेंकने वालों के खिलाफ मामला दर्ज करके जांच शुरू कर दी है।

अन्य समाचार