मुख्यपृष्ठसमाचारमिलन सबवे होगा जलमुक्त! भारी बारिश में भी अब नहीं भरेगा पानी

मिलन सबवे होगा जलमुक्त! भारी बारिश में भी अब नहीं भरेगा पानी

  • मनपा बना रही है भूमिगत टैंक

रामदिनेश यादव / मुंबई
हिंदमाता की तर्ज पर पश्चिमी उपनगर में मिलन सबवे में भी अब बरसाती पानी जमा नहीं होगा। भारी बारिश में यहां पर पानी जमा हो जाता था पर अब मिलन सबवे इस पानी से मुक्त हो गया है। मनपा हिंदमाता की तरह ही यहां भी टैंक बना रही है। टैंक में जमा होनेवाले पानी की को पंप के जरिए समुद्र में बहाया जाएगा। मनपा ने यह काम लगभग ८० प्रतिशत पूरा कर लिया है। इस वर्ष से लोगों को राहत मिलने लगेगी।
बता दें कि सांताक्रुज और विलेपार्ले के बीच मिलन सबवे के पास हर वर्ष बरसात में खूब पानी जमा होता है। वाहनों की आवाजाही पूरी तरह से ठप हो जाती है। ऐसे में इस सबवे पर जमा होनेवाले बरसाती पानी की समस्या का स्थायी समाधान निकालने के लिए मनपा ने भूमिगत टैंक बनाकर वहां एक मिनी पंपिंग स्टेशन बनाने का निर्णय पिछले वर्ष लिया था। इस योजना का फिलहाल ८० फीसदी निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। यहां अगले चार वर्ष के लिए मिनी पंपिंग स्टेशन चलने का ठेका भी दिया गया है। इस साल के पंप की लागत सहित अगले चार वर्षों के लिए करोड़ों रुपए के खर्च को मंजूरी दी है। जानकारों के अनुसार हिंदमाता में भूमिगत टैंक से पानी निकालने का काम जिस कंपनी को मिला है, अब मिलन सबवे का भी उसे ही दिया जाएगा। मिलन सबवे के पास बने टैंक में पानी को निकालने के लिए १,२०० मिमी व्यास का एक वर्षा जल नाली बनाई जाएगी। इससे बारिश के मौसम में पानी तेजी से निकल सकेगा और मिलन सबवे में पानी जमा होने की समस्या छूमंतर हो जाएगी।

२ करोड़ लीटर पानी का टैंक
बरसात के चलते यहां भूमिगत टैंक के निर्माण के बाकी काम को फिलहाल रोक दिया गया है। अगले आठ महीने में बचा हुआ काम पूरा हो जाएगा। यहां बने २ करोड़ लीटर पानी क्षमता के स्टोरेज टैंक को आरसीसी स्लैब से ढंक दिया जाएगा और प्लॉट को नियमित उपयोग के लिए तब्दील कर दिया जाएगा। इस पूरे काम के लिए तकरीबन २८ करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे हैं। स्थायी समिति की मंजूरी के बाद इसी वर्ष अप्रैल से इस टैंक का निर्माण कार्य शुरू किया गया है।

अन्य समाचार