मुख्यपृष्ठसमाचारशहरवासियों को मिलेगी दोहरी खुशी ....मीरा-भायंदर टू मुंबई जल्द दौड़ेगी मेट्रो

शहरवासियों को मिलेगी दोहरी खुशी ….मीरा-भायंदर टू मुंबई जल्द दौड़ेगी मेट्रो

सरनाईक ने दिया ठाणे-गायमुख मेट्रो मार्ग को विस्तारित करने का प्रस्ताव
चंद्रकांत दुबे / मीरा रोड । शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक के प्रयासों से शहरवासियों को दोगुनी खुशी मिलनेवाली है। जहां अगले वर्ष २०२३ में दिवाली के पहले मेट्रो में सफर करने का सपना साकार होने की उम्मीद है, वहीं ठाणे-गायमुख मेट्रो का विस्तार कर छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा तक लाने का प्रयास सरनाईक के द्वारा किया जा रहा है।
बता दें कि शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक बीते कई वर्षों से मीरा-भायंदर टू दहिसर (मुंबई) मेट्रो चलाने पर जोर दे रहे थे लेकिन इसमें बहुत सारी अड़चनें थीं। जिसमें प्रमुखत: शहर में मेट्रो कारशेड के लिए जगह की अनुपलब्धता और छत्रपति शिवाजी महाराज रोड जो शहर की मुख्य सड़क है, उस पर वाहन आवागमन में उत्पन्न होनेवाली बाधाएं। एमएमआरडीए ने पहले ही इन समस्याओं के विषय में सरकार को अवगत कराया था कि यहां मेट्रो संभव नहीं है। इस पर सरनाईक ने नागपुर की तर्ज पर यहां मेट्रो चलाने का सुझाव दिया, जिसमें शहर में मेट्रो और सड़क (एलिवेटेड) को ऊंचा किया जाए, तो शहर में मेट्रो चल सकती है। विधायक सरनाईक के सुझाव पर तत्कालीन आयुक्त यू.पी.एस. मदान ने गठबंधन सरकार के दौरान मीरा-भायंदर से दहिसर (मुंबई) तक मेट्रो-९ की मंजूरी दी थी, जिसका कार्य जोरों पर इस समय चल रहा है। उसके बाद पश्चिम द्रुतगति मार्ग पर दहिसर चेकनाका से फ्लाईओवर तथा वहां से शहर में रास्ता देने का सुझाव एमएमआरडीए की अतिरिक्त आयुक्त श्रीमती सोनिया सेठी को दिया। एमएमआरडीए ने रिपोर्ट बनाकर राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण को मंजूरी के लिए भेजा लेकिन पिछले एक साल से लगातार फॉलो-अप के बाद भी राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने बिना किसी प्रतिक्रिया के प्रस्ताव पर मंजूरी देने से इनकार कर दिया, जिसके कारण मेट्रो का काम ठप पड़ गया था।
इस संदर्भ में सरनाईक ने केंद्रीय मंत्री (सड़क व परिवहन) नितिन गडकरी और उनके कार्यालय से संपर्क कर निरंतर फॉलो-अप किया, जिस पर गडकरी ने स्वयं बैठक बुलाई, तब राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा खारिज किए गए प्रस्ताव को मंजूरी मिली।

अन्य समाचार