मुख्यपृष्ठनए समाचार`केंद्र व उद्योगपतियों के इशारे पर कर्नाटक में खुराफात'

`केंद्र व उद्योगपतियों के इशारे पर कर्नाटक में खुराफात’

सामना संवाददाता / मुंबई
कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार और उद्योगपतियों के इशारे पर कर्नाटक में खुराफात की जा रही है। ‌ इसके लिए भारतीय जनता पार्टी ने महाराष्ट्र को तोड़ने की साजिश रची है।
कांग्रेस पार्टी के कार्यालय तिलक भवन में प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए कल नाना पटोले ने कहा कि सीमावर्ती इलाके में भाजपा की कर्नाटक सरकार जान-बूझकर माहौल खराब कर रही है। मराठी लोगों को प्रताड़ित किया जा रहा है और उनकी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया जा रहा है। महाराष्ट्र की जनता कर्नाटक की दबंगई बर्दाश्त नहीं करेगी, इसका परिणाम कर्नाटक और केंद्र सरकार को भुगतना पड़ेगा। दरअसल दो राज्यों में विवाद पैदा होने के बाद केंद्र सरकार को दखल देनी चाहिए और सौहार्दपूर्ण तरीके से उसका समाधान निकालना चाहिए।‌ कर्नाटक के मुख्यमंत्री बोम्मई आए दिन भड़काऊ बयान दे रहे हैं लेकिन महाराष्ट्र सरकार की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आ रही है। महाराष्ट्र में सरकार है या नहीं।
नाना पटोले ने आरोप लगाया कि धारावी पुनर्वास परियोजना के लिए भाजपा सरकार ने पांच हजार करोड़ रुपए में सैकड़ों एकड़ जमीन एक उद्योगपति के गले में डाल दी है।‌ इसके लिए कौन-सी टेंडर प्रक्रिया अपनाई गई। इतनी बेशकीमती जमीन किस आधार पर दी गई? राज्य और केंद्र सरकार ने इस प्रक्रिया को अचानक वैâसे अंजाम दिया? धारावी पुनर्वास परियोजना के लिए दुबई की सी-लिंक द्वारा ७,५०० करोड़ रुपए की निविदा प्रस्तुत की गई थी लेकिन बाद में सरकार द्वारा रद्द कर दी गई। महाराष्ट्र सरकार ने रेलवे की जमीन के लिए ७०० करोड़ रुपए का भुगतान किया था लेकिन उस समय रेलवे ने महाराष्ट्र सरकार को जमीन नहीं दी। इस मुद्दे पर शिंदे-फडणवीस सरकार से शीतकालीन सत्र में जवाब मांगा जाएगा।

अन्य समाचार