मुख्यपृष्ठअपराधराजस्थान में बिकता है मुंबई के रेल यात्रियों का मोबाइल

राजस्थान में बिकता है मुंबई के रेल यात्रियों का मोबाइल

५० मोबाइल के साथ एक विक्रेता धराया

जितेंद्र मल्लाह / मुंबई
मुंबई की लोकल ट्रेनों में यात्रियों के मोबाइल की चोरी अब आम घटना बन गई है। प्रतिदिन मोबाइल चोरी की दर्जनों घटनाएं मुंबई के विभिन्न रेलवे पुलिस थानों में दर्ज होती हैं। इनमें से ज्यादातर मामले अनसुलझे ही रहते हैं। रेल यात्रियों को उनका खोया मोबाइल वापस मिलता ही नहीं है क्योंकि अब उन मोबाइलों को दूसरे राज्यों में बेचा जाने लगा है। इसका खुलासा रेलवे पुलिस की क्राइम ब्रांच ने किया है। क्राइम ब्रांच की दादर यूनिट की टीम ने मुंबई के मोबाइल चोर से चोरी का मोबाइल खरीदने व राजस्थान में उन्हें बेचनेवाले शख्स को गिरफ्तार किया है।
बता दें कि रेलवे पुलिस क्राइम ब्रांच की दादर यूनिट की टीम को चोरी के मोबाइल के साथ एक शख्स के आने की सूचना मिली थी। एसीपी सचिन कदम के मार्गदर्शन व वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक अरशुद्दीन शेख के नेतृत्व में रेलवे पुलिस क्राइम ब्रांच की दादर यूनिट की टीम ने बोरीवली -पूर्व में रेलवे स्टेशन के पास जाल बिछाया। वहां खबरी द्वारा दिए गए संकेत के बाद बैग के साथ जा रहे ३५ वर्षीय व्यक्ति को दादर यूनिट की टीम ने हिरासत में लिया। जांच में उसके बैग से ५० मोबाइल फोन बरामद हुए। पूछताछ में वह पुलिस को गुमराह करने का प्रयास करने लगा, लेकिन पुलिस ने जब सख्ती दिखाई तो वह टूट गया। उसने बताया कि वह मूलरूप से राजस्थान के भाटकर पुरा का निवासी है और बोरीवली में रहनेवाले किसी माइकल नामक व्यक्ति से चोरी के मोबाइल फोन खरीद कर उन्हें राजस्थान में बेचता है। जप्त किए गए मोबाइल फोनों की कीमत दस लाख ४० हजार ९२० रुपए आंकी गई है। इनमें एक फोन वर्ष २०२१ में ठाणे रेल पुलिस की हद से चुराया गया था। बाकी मोबाइल फोनों की रेलवे पुलिस आईएमईआई नंबर की मदद से जांच कर रही है।

अन्य समाचार