" /> झांसा वीआईपी नंबर का : ‘Godaddy’ पर खरीदा एयरटेल का फर्जी डोमेन

झांसा वीआईपी नंबर का : ‘Godaddy’ पर खरीदा एयरटेल का फर्जी डोमेन

मोबाइल का मस्त नंबर दिलाने का झांसा
कई लोगों से की लाखों की ठगी

दूसरों से दिखने की चाह कौन नहीं रखता है। लेकिन सबके लिये ये संभव नहीं होता है। फिर भी जहां तक और जिस तरह भी हो सके लोग वीआईपी बनने का कोई मौका नहीं चूकना चाहते हैं। लोगों की वीआईपी की ऐसी ही चाहत का लाभ कुछ ठग उठाते थे। ठग खासकर वीआईपी मोबाइल नंबर दिलाने का झांसा देकर लोगों को लाखों रुपए की चपत लगाने लगे हैं क्योंकि मोबाइल नंबर अब लोगों की पहचान बनने लगे हैं। मोबाइल का वीआईपी नंबर दिलाने का झांसा देकर ठगी करनेवाले तीन ऐसे ही ठगों को मुंबई पुलिस की साइबर क्राइम शाखा- बीकेसी ने गिरफ्तार किया है। इन ठगों ने Godaddy कंपनी से एयरटेल के नाम का डोमेन खरीद लिया था और एयरटेल का फर्जी लोगो इस्तेमाल करके ठगी कर रहे थे।
बता दें कि मुंबई में रहने वाले हिमेश (काल्पनिक नाम) को एक ठग ने 10 जून को संपर्क किया था। खुद को एयरटेल कंपनी का कर्मचारी बतानेवाले ठग ने
हिमेश को एयरटेल कंपनी का वीआईपी मोबाइल नंबर दिलाने का झांसा दिया और ई-मेल के जरिए एयरटेल कंपनी के नाम का इन्वाइस भेजकर आईडीएफसी फर्स्ट बैंक में 3,33,019 रुपए भरवा लिए। बाद में उन लोगों ने हिमेश से संपर्क तोड़ लिया। हिमेश को जब वीआईपी मोबाइल नंबर वाला सिम कार्ड नहीं मिला और कथित ठग से उनका संपर्क नहीं हुआ तो उन्हें ठगे जाने का एहसास हो गया। हिमेश ने 19 जून को ठगी की शिकायत बीकेसी स्थित साइबर पुलिस थाने में दर्ज कराई थी।

सोशल मीडिया में ढूंढते थे शिकार

बीकेसी साइबर पुलिस ने मामले जांच शुरू की तो पता चला कि ठग सोशल मीडिया खासकर व्हाट्सऐप पर वीआईपी नंबर बेचने का मैसज भेजते थे। क्युंकि आजकल बैंक, आधार कार्ड, पैन कार्ड, कोरोना टीका आदि सभी कामों में मोबाइल नंबर का इस्तेमाल होने लगा है इसलिए विआईपी मोबाइल की चाहत लोगों में बढ़ी है।इसलिए लोग ठगों के जाल में आसानी से फंस जाते थे।

ठगों ने जुटाया था एक लाख लोगों का डाटा

ठगों ने साढ़े तीन से साढ़े 4 हजार रुपए खर्च करके कुछ प्रतिष्ठित कंपनियों से करीब एक लाख लोगों का डाटा खरीद लिया था। पुलिस ने दो ठगों को कांदिवली से और उनके बॉस को डोंबिवली (ठाणे) से गिरफ्तार किया। ठगों के बैंक खाते में 15 लाख 88 हजार रुपए जमा थे, जो कि ठगी करके जुटाए गए थे। कांदिवली पूर्व से पकड़े गए एक आरोपी के पास से 10 एटीएम कार्ड, 6 मोबाइल फोन, 8 सिम कार्ड, एक देसी कट्टा और 9 जिंदा कारतूस भी बरामद हुए हैं। शस्त्र अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत इसकी शिकायत समता नगर पुलिस थाने में दर्ज की गई है।