मुख्यपृष्ठनए समाचार‘अडानी और अंबानी पर मोदी बड़ी चालाकी से सबका ध्यान भटका रहे...

‘अडानी और अंबानी पर मोदी बड़ी चालाकी से सबका ध्यान भटका रहे हैं’- शरद पवार

सामना संवाददाता / मुंबई
एनसीपी (शरदचंद्र पवार) के अध्यक्ष शरद पवार ने सातारा में कहा कि अडानी और अंबानी से दोस्ती को लेकर मोदी बड़ी चालाकी से ध्यान भटकाने की कोशिश कर रहे हैं, ताकि चुनाव में उनकी पार्टी पर इसका बुरा असर न पड़े। लेकिन देश की जनता जानती है कि अडानी और अंबानी किसके ज्यादा नजदीक हैं। पवार कर्मवीर भाऊराव पाटील की पुण्यतिथि पर आयोजित एक कार्यक्रम के लिए सातारा आए हैं और इस मौके पर उन्होंने पत्रकारों से बातचीत की।

अडानी और अंबानी के माध्यम से कांग्रेस को पैसे देने के आरोप के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अडानी और अंबानी अब तक किससे जुड़े रहे हैं। वे किसके मित्र हैं? इस पर चर्चा कौन कर रहा है? पवार ने कहा कि वे दूसरी पार्टियों का नाम डायवर्ट कर रहे हैं, ताकि भाजपा के वोट पर इसका असर न पड़े। वे बड़ी चालाकी से लोगों का ध्यान भटका रहे हैं।
ऐसा लग रहा है कि पहले-दूसरे व तीसरे चरण का मतदान मोदी को परेशान करने वाला है। पहले, दूसरे और तीसरे चरण के बाद मोदी ने अपनी भाषा बदल ली है। उन्होंने पहली बार मुस्लिम समुदाय का खुलकर जिक्र किया इसलिए अब उन्हें संदेह हो रहा है कि कट्टर समर्थन के बिना कोई बदलाव नहीं आएगा। उन्होंने कहा कि मेरा मानना ​​है कि जैसे-जैसे मोदी चुनाव में आगे बढ़ रहे हैं, वैसे ही उनकी स्थिति खतरे में पड़ती जा रही है।

शरद पवार हमारे भगवान हैं!
महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजीत पवार ने चाचा शरद पवार पर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि शरद पवार हमारे भगवान हैं, लेकिन ८० साल की उम्र में उन्हें रुक जाना चाहिए। साथ ही उन्होंने महाराष्ट्र के शिरूर में कहा, ‘मैं शरद पवार का लड़का नहीं हूं, इसलिए मुझे मौका नहीं मिला। यह वैâसा न्याय है। यदि मैं शरद पवार का सगा लड़का होता तो मुझे मौका दिया जाता।’ अजीत पवार ने लोगों से अपील की कि भावुक होकर मतदान न करें। अजीत पवार ने जुलाई २०२३ में एनसीपी में बगावत कर दी थी और चाचा शरद पवार का साथ छोड़ दिया था। अजीत पवार बीजेपी और शिंदे गुट की सरकार में शामिल हो गए और डिप्टी सीएम बने। अजीत पवार ने एनसीपी के चुनाव चिह्न और नाम पर भी चुनाव आयोग में दावा किया। बाद में चुनाव आयोग ने चिह्न और नाम अजीत पवार गुट को सौंप दिए, वहीं शरद पवार को एनसीपी (शरदचंद्र पवार) नाम दिया गया और चुनाव चिह्न तुतारी। इस बगावत के बाद पहली बार राज्य में चुनाव हो रहे हैं। इस चुनाव में अजीत पवार ने पत्नी सुनेत्रा पवार को बारामती लोकसभा सीट से उम्मीदवार बनाया। यहां उनका मुकाबला शरद पवार की सांसद बेटी सुप्रिया सुले से है।

अन्य समाचार