मुख्यपृष्ठनए समाचारवंशवाद पर मोदी का हमला

वंशवाद पर मोदी का हमला

सामना संवाददाता / नासिक
राजनीति में वंशवाद का खामियाजा देश को भुगतना पड़ा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वंशवाद पर हमला बोलते हुए कहा कि सक्रिय राजनीति में युवाओं की भागीदारी बढ़ेगी तो वंशवाद का प्रभाव कम होगा। इससे वंशवादी भाजपा के साथ महागठबंधन में शामिल राजनेताओं के लिए दुविधा पैदा हो गई है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को नासिक में राष्ट्रीय युवा महोत्सव का उद्घाटन किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि उन्होंने इस दौरान राजनीति के माध्यम से देश की सेवा की जा सकती है। जब मैं दुनियाभर के नेताओं और विशेषज्ञों से मिलता हूं, तो वे भारतीय लोकतंत्र के बारे में आश्चर्य व्यक्त करते हैं। भारत लोकतंत्र की जननी है। राजनीति में युवाओं की भागीदारी जितनी अधिक होगी, देश का भविष्य उतना ही उज्जवला होगा। भागीदारी के कई रूप हैं। सक्रिय राजनीति में युवाओं की भागीदारी बढ़ेगी तो वंशवादी राजनीति का प्रभाव कम होगा। उन्होंने कहा कि सभी जानते हैं कि वंशवाद की राजनीति से देश को कितना नुकसान हुआ है। लोकतांत्रिक प्रक्रिया में भाग लेना मतदान के माध्यम से होता है। पहली बार मतदान करने वाले मतदाता लोकतंत्र को मजबूत करेंगे। इसके चलते उन्होंने मतदान पंजीकरण प्रक्रिया में तेजी लाने की भी अपील की।
किसी का चेहरा मत हटाओ
अमृतकाल कर्तव्य काल है। कर्तव्य को महत्व दिया जाए तो देश व समाज आगे बढ़ेगा। मोदी ने कहा, इसके लिए कुछ फॉर्मूले ध्यान में रखें। यथासंभव स्थानीय उत्पादन पर जोर दें, इसे बढ़ावा दें। उन्होंने यह भी अपील की कि नशे सहित सभी व्यसनों से दूर रहें, इसे अपने जीवन का आधार न बनने दें। मां, बहन, बेटियों के नाम पर गाली मत दो। मोदी ने सलाह दी, ऐसा करने वालों के खिलाफ आवाज उठाएं। इस संबंध में मैंने लाल किले से भी अपील की थी। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि वह यहां फिर से वही बात कह रहे हैं।

अन्य समाचार