मुख्यपृष्ठनए समाचारमानसून ने मुंबई से मोड़ा मुंह! ...अब तक हुई है औसतन ७३...

मानसून ने मुंबई से मोड़ा मुंह! …अब तक हुई है औसतन ७३ फीसदी वार्षिक बारिश

• जलाशय क्षेत्रों में भी नहीं हो रही बरसात
• ८३ फीसदी पर भंडारण बरकरार

धीरेंद्र उपाध्याय / मुंबई
मुंबई में हर साल अच्छी बारिश होती है, लेकिन इस बार अगस्त महीने में इंद्र देव कुपित दिखाई दे रहे हैं। एक तरह से यह कहना गलत नहीं होगा कि मानसून ने मुंबई से मुंह मोड़ लिया है। ऐसे में मुंबईकरों का अच्छी बारिश के लिए इंतजार और लंबा होने की उम्मीद है। फिलहाल, मुंबई में अब तक सालाना औसतन ७३ फीसदी बारिश हो चुकी है, वहीं जलाशय क्षेत्रों में भी बारिश का ब्रेक लग गया है। इसलिए मुंबई को जलापूर्ति करनेवाले सभी सातों जलाशयों में जल भंडारण ८३ फीसदी पर स्थिर हो गया है।
उल्लेखनीय है कि महानगर में मानसून ने जून महीने के आखरी सप्ताह में दस्तक दी थी और फिर जो बारिश हुई, उसने कुछ रिकॉर्ड भी स्थापित किए। महज दो महीने में उपनगर में २,००० मिमी से अधिक और शहर में १,५०० मिमी से अधिक बारिश दर्ज की गई, लेकिन अगस्त आते ही बारिश पर अस्थाई ब्रेक लग गया है। पिछले १३ दिनों में नाममात्र की बारिश दर्ज की गई है। मौसम विभाग से मिले आंकड़ों के अनुसार, उपनगर में ३० मिमी और शहर में २८ मिमी बारिश ही दर्ज की गई है। बारिश के उक्त आंकड़े दर्शाते हैं कि मानसूनी गतिविधि बेहद कम हो गई है।
बारिश न होने से बढ़ी गर्मी
मुंबई में बारिश न होने के कारण अधिकतम तापमान ३० डिग्री सेल्सियस के ऊपर बना हुआ है। शनिवार को मुंबई का अधिकतम तापमान ३१.८ डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया और न्यूनतम तपामन २६ डिग्री सेल्सियस के बीच दर्ज किया गया है।
सप्ताह भर अच्छी बारिश के नहीं हैं आसार
मुंबई समेत राज्य के कई जिलों में आगामी एक सप्ताह तक अच्छी बारिश के कोई आसार नहीं दिखाई दे रहे हैं। कुछ क्षेत्रों में अगर हुई तो हल्की बारिश ही होगी।
जलाशयों में जल भंडारण पर नजर
इस साल भले ही अच्छी बारिश हुई है, लेकिन जलाशय क्षेत्रों में अन्य वर्षों की तुलना में बरसात और जल भंडारण भी कम हुआ है। बताया गया है कि जल भंडारण में अभी भी १५ से १७ फीसदी की कमी है। वर्तमान में सभी सात जलाशयों में १२ लाख ८ हजार ६२४ मिलियन लीटर यानी ८३.५१ फीसदी पानी जमा हो चुका है। इसके चलते फिलहाल मुंबई में लागू की गई १० फीसदी जलापूर्ति कटौती रद्द कर दी गई है। हालांकि, मनपा प्रशासन इस बात पर ध्यान दे रहा है कि जलाशयों में पानी का भंडारण बढ़ रहा है या नहीं। जल अभियंता विभाग भी जलाशय के जलस्तर पर नजर रख रहा है, ताकि डेढ़ से दो माह की बारिश शेष रहने के बावजूद भी जलाशय में पानी की कमी न होने पाए।
भातसा जलाशय है खाली
शहर को प्रतिदिन १,८५० एमएलडी जलापूर्ति करनेवाला सबसे बड़ा भातसा जलाशय भी अभी तक पूरी तरह से नहीं भरा है। पिछले साल अगस्त के पहले सप्ताह में भतसा जलाशय में ९० प्रतिशत से अधिक जल भंडारण था, लेकिन इस बार इसमें जल भंडारण ७८ फीसदी है। इसलिए इस जलाशय को ओवरफ्लो होने के लिए डेढ़ लाख मिलियन लीटर पानी की जरूरत है। इस जलाशय की भंडारण क्षमता ७ लाख १७ हजार मिलियन लीटर है। फिलहाल, इसमें १९ अगस्त तक ५६०,००० मिलियन लीटर पानी का भंडारण हो चुका है। नासिक जिले के अपर वैतरणा जलाशय में जल भण्डार ७१ प्रतिशत है।

जुलाई में हुई थी संतोषजनक बारिश
जुलाई महीने में संतोषजनक बारिश हुई थी। इसके साथ ही मुंबई में अब तक वार्षिक औसत की ७३.७६ फीसदी बारिश हो चुकी है। पिछले साल इसी समयावधि में ७० फीसदी बारिश हुई थी। मुंबई में हर साल २,५०० मिमी बारिश होती है। वहीं मौसम विभाग के कोलाबा स्टेशन पर जून से अब तक १,७९२ मिमी बारिश दर्ज की गई है, वहीं सांताक्रूज स्टेशन पर २,३५४ मिमी बारिश दर्ज की गई है।

अन्य समाचार

लालमलाल!